लालू का नया सियासी पैतरा, बेटे की जगह बेटी को बनायेंगे डिप्टी सीएम

पटना| बिहार की सियासत में भूचाल आया हुआ है, महागठबंधन टूटने के कगार पर खड़ी है, लालू के छोटे पुत्र व बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के सियासी करियर पर संकट के बादल मंडरा रहें हैं ऐसे में बेटे के राजनितिक करियर और महागठबंधन को बचाना लालू के लिए चुनौती का विषय बना हुआ है लेकिन यह भी नहीं भूलना चाहिए कि राजनितिक धुरंधर कोई ऐसा सियासी पैतरा चल सकते है जिससे भैस भी मर जाये और लाठी भी न टूटे| यह बात अब होती दिख रही है क्योकि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव दोनों से बातचीत की है| हालांकि जो बीच का रास्ता है उसमें तेजस्वी यादव का इस्तीफा तय माना जा रहा है| लेकिन यह पद लालू की दूसरे नंबर की बेटी रोहिणी यादव को मिल सकता है क्योंकि रोहिणी यादव का ससुराल किसी राजनैतिक दल से संबंधित नहीं है|

गौरतलब है कि महागठबंधन के बीच बढ़ रही तनातनी को कम करने के लिए कांग्रेस ने कदम बढ़ाया है और बीच का रास्ता निकालने की कोशिश की जा रही है| लेकिन जहां तक तेजस्वी यादव के इस्तीफे की बात है तो इस पर जनता दल किसी समझौता के लिए तैयार नहीं है| जेडीयू का मानना है कि तेजस्वी यादव को पद छोड़ देना चाहिए और ये आरजेडी पर निर्भर करता है कि वो चाहे जिसे उनकी जगह दे|

कांग्रेस किसी भी कीमत पर महागठधंन को एकजुट रखना चाहती है| खासकर उपराष्ट्रपति के चुनाव तक और इसलिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नीतीश कुमार और लालू यादव से बातचीत कर हल निकलने की गुजारिश भी की है| ऐसा लगता है कि लालू प्रसाद यादव रांची चारा घोटाले में सुनवाई के बाद जब शनिवार को पटना लौटेंगे तब इस पर कोई बातचीत बनेगी|