1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सबसे अंत में जो आखिरी वैक्सीन बची हो उन्हें लगाया जाए : अखिलेश यादव

सबसे अंत में जो आखिरी वैक्सीन बची हो उन्हें लगाया जाए : अखिलेश यादव

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने अपने 48वें जन्मदिन पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि वह प्रदेश के सबसे आखिरी व्यक्ति होंगे और सबसे अंत में वैक्सीन लगवाएंगे। यादव ने कहा कि जो आखिरी बची वैक्सीन हो उन्हें लगाया जाए। इसके साथ ही दावा किया कि अगले साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने अपने 48वें जन्मदिन पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि वह प्रदेश के सबसे आखिरी व्यक्ति होंगे और सबसे अंत में वैक्सीन लगवाएंगे। यादव ने कहा कि जो आखिरी बची वैक्सीन हो उन्हें लगाया जाए। इसके साथ ही दावा किया कि अगले साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी।

पढ़ें :- यूपी: ब्राह्मण वोटर्स क्यों हो गए खास, अखिलेश यादव को भी आई याद, बागी बलिया से शुरू करेंगे अभियान

सबसे पहले उत्तर प्रदेश के गरीब, किसान, मजदूर और नौजवानों को वैक्सीन लगवा दे सरकार

इस अवसर पर श्री यादव ने सभी से अपील की कि सभी लोग कोरोना की वैक्सीन जरूर लगवाएं। उन्होंने कहा कि यह सरकार की जिम्मेदारी है कि यूपी की जनता को वैक्सीन लगवाए। बीजेपी की दोनों जगह सरकार है और यह वही पार्टी है जिसने करोड़ों रुपये खर्च किए और कहा कि दो डोज जरुरी है। आज वही बीजेपी कह रही है कि एक डोज जरुरी है।अखिलेश ने कहा कि हम चाहते हैं कि अगर वो वैक्सीन हमें लगाना चाहते हैं। तो सबसे पहले उत्तर प्रदेश के गरीब, किसान, मजदूर और नौजवानों को वैक्सीन लगवा दें। अंत में जो एक वैक्सीन बचे वो हमें लगा दें।

इसी साल जनवरी में जब वैक्सीनेशन की तैयारी चल रही थी, तब अखिलेश यादव ने ऐलान किया था कि उन्हें बीजेपी की वैक्सीन पर भरोसा नहीं है, जब हमारी सरकार आएगी तो सभी को मुफ्त में वैक्सीन लगवाएगी। उनके इस बयान पर खासा विवाद भी हुआ था। बीजेपी ने जमकर निशाना भी साधा था।

पिछले महीने अखिलेश ने यू-टर्न लिया और ट्वीट कर कहा कि वह ‘भारत सरकार’ का टीका लगवाएंगे

पढ़ें :- यूपी के यदुवंशी हों या रघुवंशी सब हैं हमारे साथ : उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

लेकिन पिछले महीने अखिलेश ने यू-टर्न लिया और ट्वीट कर कहा कि वह ‘भारत सरकार’ का टीका लगवाएंगे, वो सिर्फ ‘भाजपा’ के टीके के खिलाफ थे। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा कि जनाक्रोश को देखते हुए आखिरकार सरकार ने कोरोना के टीके के राजनीतिकरण की जगह ये घोषणा करी कि वह टीके लगवाएगी। हम भाजपा के टीके के खिलाफ थे पर ‘भारत सरकार’ के टीके का स्वागत करते हुए हम भी टीका लगवाएंगे और टीके की कमी से जो लोग लगवा नहीं सके थे। उनसे भी लगवाने की अपील करते हैं।

अखिलेश यादव ने यू-टर्न तब लिया जब पिछले महीने की शुरुआत में समाजवादी पार्टी के संरक्षक और उनके पिता मुलायम सिंह यादव की एक तस्वीर सामने आई थी जिसमें वह कोरोना वैक्सीन लगवाते दिख रहे थे।

अपने जन्मदिन के अवसर पर अगले साल उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के बारे में अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है। जनता ने जिसको बदलाव के लिए वोट दिया था उन्होंने कुछ नहीं किया। 2022 में उनकी सरकार आ रही है। बीजेपी ने जो वादा किया था वह निभाए और अपना संकल्प पत्र पूरा करें।

चुनाव में गठबंधन के बारे में अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने फैसला लिया है कि हम बड़े दलों के साथ नहीं चलेंगे। उनके साथ अनुभव ठीक नहीं रहा। हम छोटे दलों को अपने साथ रखेंगे। ज्यादा से ज्यादा है छोटे दलों के साथ गठबंधन करेंगे। उन्होंने कहा कि वह चाचा (शिवपाल सिंह यादव) को भी साथ रखने की कोशिश करेंगे।

पढ़ें :- अब यूपी में केवल मोदी और योगी  के विकासवाद का युग : डॉ. दिनेश शर्मा  
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...