1. हिन्दी समाचार
  2. जानें आखिर क्यों दक्षिण भारत में किया जाता है हिन्दी का विरोध

जानें आखिर क्यों दक्षिण भारत में किया जाता है हिन्दी का विरोध

Learn Why In South India Hindi Is Opposed

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली। जिस हिंदी को जानने-समझने और सीखने के लिए दुनिया के तमाम देश आतुर हैं, उसी देश में हिंदी को लेकर कुछ हिस्से में ही हिचक दिखाई देना चिंता की बात है। तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था और दुनिया के सबसे बड़े बनते उपभोक्ता बाजार के नाते तमाम बहुराष्ट्रीय कंपनियां कारोबार के लिए भारत का रुख कर रही हैं। वे बड़ा पूंजी निवेश कर रही हैं।

पढ़ें :- ऑस्ट्रेलिया से जीत के बाद विराट कोहली ने बताया किस खिलाड़ी की वजह से मैच जीते

दरअसल, यहां कारोबार चलाने के लिए व भाषा की दिक्कत को दूर करने के लिए हिंदी भाषी कर्मचारियों को तवज्जो दे रही हैं। लेकिन हाल में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के मसौदे में त्रिभाषा फार्मूले के तहत हिंदी को अनिवार्य बनाए जाने को लेकर दक्षिण के राज्यों में विरोध शुरू हो गया। ये बात और है कि लोकप्रियता हासिल करने के लिए वे अपने साहित्य में हिंदी पढ़ाने के लिए बेसब्र रहते हैं और अपनी फिल्मों को हिंदी में तैयार कराकर करोड़ों के वारे-न्यारे करते हैं। यह दोहरापन इस तथाकथित विरोध को सियासी ठहराने के लिए काफी है।

वहीं, दक्षिण भारत में केंद्र सरकार हिंदी को मजबूत बनाने के अपने दायित्व से पीछे हट जाती है तभी तो त्रिभाषा फार्मूले से हिंदी की अनिवार्यता को उसे खत्म करना पड़ा। अब सरकार के इस कदम का विरोध भी शुरू हो गया है। पूरे देश को एक सूत्र में पिरोने के मकसद से नई शिक्षा नीति को तैयार करने वाली कमेटी के दो वरिष्ठ सदस्यों ने बगैर सहमति त्रिभाषा फार्मूले से हिंदी को हटाए जाने का विरोध किया है। ऐसे में हिंदी के प्रति दक्षिण राज्यों की इस हिचक की पड़ताल आज सबसे बड़ा मुद्दा है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...