1. हिन्दी समाचार
  2. राम लला को दी गयी कानूनी मान्यता, सुन्नी वक्फ बोर्ड को दूसरी जगह दी जायेगी 5 एकड़ जमीन

राम लला को दी गयी कानूनी मान्यता, सुन्नी वक्फ बोर्ड को दूसरी जगह दी जायेगी 5 एकड़ जमीन

Legal Recognition Given To Ram Lala Sunni Waqf Board Will Be Given 5 Acres Of Land

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन रामजन्मभूमि न्यास को दी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा हिंदू गुंबद के नीचे ही रामलला का जन्मस्थान मानते हैं। कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में कहीं भी पांच एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है। हिंदू मानते हैं कि गुंबद के नीचे रामलला का जन्म हुआ। आस्था पर जमीन के मालिकाना हक का फैसला नहीं है। सीजेआई ने कहा कि निर्मोही अखाड़े और सुन्नी वक्फ बोर्ड के दावे खारिज किए जाते हैं. क्योंकि, दोनों पक्षों की दलीलें कोई नतीजा नहीं देती। सीजेआई ने ASI की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि विवादित ढांचा खाली जमीन पर नहीं बनाया गया था। सीजेआई ने कहा कि विवादित स्थल पर हमेशा से पूजा होती आई है, हिंदू वहां सीता की रसोई भी मानते हैं। अयोध्या के विवादित स्थल के बाहरी क्षेत्र पर हिंदुओं का दावा साबित होता है। 1856 से पहले मुस्लिमों का गुंबद पर दावा साबित नहीं होता। खुदाई में मिला ढांचा गैर इस्लामिक था लेकिन मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने का प्रमाण नहीं। इस केस में हिंदू पक्ष ने कई ऐतिहासिक सबूत दिए। बाहरी चबूतरा, राम चबूतरा और सीता की रसोई में भी पूजा होती थी। चीफ जस्टिस ने कहा कि 1949 में मूर्तियां रखी गईं। कोर्ट ने कहा 1856 से पहले मुस्लिमों का गुंबद पर दावा साबित नहीं होता।

पढ़ें :- कोरोना महामारी से जूझती दुनिया का सहारा बना भारत, 150 देशों को भेजी कोविड वैक्सीन की खेप

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...