एम्बुलेन्स की सुविधा न मिलने पर 80 किलोमीटर घसीटी पत्नी की लाश

हैदराबाद: एक बार फिर ऎसी एक शर्मनाक घटना सामने आयी है जिसे सुन कर आपको इंसानियत और अस्प्ताली सुविधाओं से विश्वास उठ जाएगा। ओडिशा के दाना मांझी की घटना अभी किसे नहीं याद होगी जिसमे पति अस्पताल से एम्बुलेन्स न मिलने पर बीवी की लाश कंधे पर ढोकर ले जा रहा था, उस घटना से देश भर में हंगामा खड़ा हो गया था। एक बार फिर उससे भी शर्मनाक तस्वीर तेलंगाना के हैदराबाद से सामने आई है। यहां लेप्रोसी से ग्रसित 53 साल के रामुलु एकेड को अपनी पत्नी की लाश को 80 किलोमीटर तक इसलिए घसीट कर ले जाना पड़ा क्योंकि हॉस्पिटल ने उसे एंबुलेंस देने से मना कर दिया था और उसके पास गाड़ी किराए पर लेने के पैसे नहीं थे।




ये घटना रामुलु एकेड नाम के व्यक्ति की है जो ये कहानी बताते-बताते एकदम टूट गया और फूट-फूटकर रोने लगा| 53 साल के रामुलु को लेप्रोसी है और वो हैदराबाद के मंदिरों में भीख मांग कर अपना गुजारा करते हैं। उनकी पत्नी 46 साल की कविथा को भी लेप्रोसी थी जिनकी बीते शुक्रवार को एक लोकल हॉस्पिटल में मौत हो गयी थी। रामुलु ने हॉस्पिटल से बीवी की लाश को अपने पैतृक गांव माईकोड ले जाने के लिए एंबुलेंस देने के लिए कहा।

सूत्रों के मुताबिक हॉस्पिटल वालों ने रामुलु से 5000 रुपए की मांग की। रामुलु के पास इतने पैसे नहीं थे इसलिए उसने उसी गत्ते के बिस्तर पर बीवी की लाश को घसीटकर घर तक ले जाने की ठानी। रामुलु ने चलना शुरू किया और वो करीब 24 घंटे लगातार चलने के बाद शनिवार शाम तक विकराबाद नाम की जगह तक पहुंच गए।




बस यहीं पहुंचकर रामुलु का हौसला टूट गया और उन्होंने बीवी की लाश के साथ सड़क के किनारे बैठकर रोना और लोगों से मदद मांगना शुरू कर दिया। इसके बाद पास के गांव के कुछ लोगों की नज़र रामुलु पर पड़ी और उन्होंने पुलिस को पूरे मामले की जानकारी दी। इसके बाद इलाके के ही एक वकील रमेश कुमार और पुलिस ने एंबुलेंस की व्यवस्था कर रामुलु की पत्नी लाश को घर तक पहुंचाया।