1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. महात्मा गांधी व शास्त्री का जीवन और दर्शन हम सभी के लिए प्रेरणा स्रोत : प्रो. राणा कृष्ण पाल सिंह

महात्मा गांधी व शास्त्री का जीवन और दर्शन हम सभी के लिए प्रेरणा स्रोत : प्रो. राणा कृष्ण पाल सिंह

डॉ. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय लखनऊ (Dr. Shakuntala Mishra National Rehabilitation University Lucknow) में रविवार को महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी का जंयती समारोह और स्वच्छता जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। डॉ. शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय लखनऊ (Dr. Shakuntala Mishra National Rehabilitation University Lucknow) में रविवार को महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी का जंयती समारोह और स्वच्छता जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राणा कृष्ण पाल सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आज का दिवस 2 अक्टूबर को हम इसलिए याद रखते हैं कि आज से 153 साल पहले महात्मा गांधी का जन्म हुआ था,जिनके सत्य, अहिंसा एवं अपरिग्रह के मार्ग पर चलने का प्रण संकल्प लेकर ही हम देश को नई दिशा देने की ओर अग्रसर होंगे।

पढ़ें :- एकेटीयू में मनी गांधी जयंती : प्रो. प्रदीप कुमार मिश्र बोले- हर दौर में प्रासंगिक रहेगी राष्ट्रपिता की विचारधारा

इस देश के ईमानदार प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जिंदगी का एक किस्सा यह भी है कि उनके तीन बच्चों ने प्रधानमंत्री रहते समय एक कार खरीदने का आग्रह किया। उस समय कार की कीमत 12 हजार रुपए थी,शास्त्री जी के बैंक खाते में मात्र 7 हजार रुपए थे। उन्होंने बच्चो का आग्रह पूरा करने के लिए 5 हजार रुपए का लोन लिया। इस कर्ज को चुकाने से पहले ही उनकी मृत्यु हो गई। ईमानदारी की इससे बड़ी मिसाल नही हो सकती।

गांधी जी देश को आजादी दिलायी, शास्त्री जी ने जवानों और किसानों का आह्वान करके देश को संभाला था,अटल बिहारी वाजपेई जी ने जय जवान, जय किसान,जय विज्ञान का नारा दिया,वर्तमान प्रधानमंत्री माननीय मोदी  ने इसी कड़ी में एक और शब्द जोड़ा – जय अनुसंधान।

इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए डा आलोक कुमार ने कहा कि महात्मा गांधी कभी मरेंगे नहीं,उन्होंने सत्याग्रह से आगे बढ़कर व्यक्तिगत सत्याग्रह आंदोलन को जन्म दिया,प्रार्थना से आगे बढ़कर सामूहिक प्रार्थना को प्रणाली को अपनाया।

इस अवसर पर प्रो. प्रमोद सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि गांधी केवल राजनैतिक प्रतिभा के धनी ही नही थे। वे आध्यात्मिक प्रतिभा के भी धनी थे,इन दोनो साधनों का इस्तेमाल करके उन्होंने भारत को आजादी दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ. अमित कुमार राय, प्रो. आर आर सिंह,प्रो. वीरेंद्र यादव,बृजेंद्र सिंह समेत अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ. बृजेश कुमार राय ने किया।

पढ़ें :- Gandhi Jayanti: गांधी जयंती पर सीएम योगी ने चलाया चरखा, कहा-बापू का खादी भारत के स्वावलंबन का आधार बना

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...