पंजाब के पूर्व CM बेअंत सिंह की हत्या मामले में जगतार सिंह को उम्रकैद

पंजाब के पूर्व CM बेअंत सिंह की हत्या मामले मे जगतार सिंह को उम्रकैद
पंजाब के पूर्व CM बेअंत सिंह की हत्या मामले मे जगतार सिंह को उम्रकैद
चंडीगढ़।  चंडीगढ़ की एक अदालत ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या से संबंधित एक मामले में दोषी ठहराए गए जगतार सिंह तारा को उम्रकेद की सजा सुनाई है। उसे एक दिन पहले ही 1995 में पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या में शामिल होने के लिए दोषी ठहराया गया था। बेअंत सिंह और 17 अन्य को 'मानव बम' दिलावर सिंह ने खुद को उड़ा कर मौत के घाट उतार दिया था। घटना 31 अगस्त 1995 को…

चंडीगढ़।  चंडीगढ़ की एक अदालत ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या से संबंधित एक मामले में दोषी ठहराए गए जगतार सिंह तारा को उम्रकेद की सजा सुनाई है। उसे एक दिन पहले ही 1995 में पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या में शामिल होने के लिए दोषी ठहराया गया था। बेअंत सिंह और 17 अन्य को ‘मानव बम’ दिलावर सिंह ने खुद को उड़ा कर मौत के घाट उतार दिया था। घटना 31 अगस्त 1995 को भारी भरकम सुरक्षा वाले पंजाब सचिवालय परिसर की है।

वहीं, जज ने तारा को खुद के बचाव में गवाही पेश करने को कहा था लेकिन तारा ने सीबीआई वकील के प्रश्नों का जवाब देते हुए बचाव में गवाही देने से इंकार कर दिया था। उसने कहा कि जो बयान उसने लिखित में दिए हैं, वही अंतिम समझे जाएं।

{ यह भी पढ़ें:- कर्नाटक विधानसभा चुनाव : येदियुरप्पा ने पर्चा भरा }

क्या है पूरा मामला

चंडीगढ़ में सिविल सचिवालय के बाहर 31 अगस्त 1995 को एक विस्फोट में तत्कालीन मुख्यमंत्री बेअंत सिंह मारे गए थे। इस घटना में 16 लोगों की भी मौत हुई थी। पंजाब पुलिस के कर्मचारी दिलावर सिंह ने इस घटना में मानव बम की भूमिका निभाई थी।

तारा को सितम्बर 1995 में दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था। बहरहाल, वह और दो अन्य आरोपी मामले की सुनवाई के दौरान 2004 में बुड़ैल जेल से फरार हो गए. बाद में उसे 2015 में थाईलैंड से गिरफ्तार किया गया।

{ यह भी पढ़ें:- छग मेँ 10 साल की बच्ची से दुष्कर्म, हत्या     }

Loading...