जल्द ही ‘आधार’ से जोड़ा जाएगा वोटर आईडी, आयोग ने शुरू की तैयारी

आधार, वोटर आईडी, आयोग
जल्द ही 'आधार' से जोड़ा जाएगा वोटर आईडी, आयोग ने शुरू की तैयारी

नई दिल्ली। आधार पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद निवार्चन आयोग अब आधार को वोटर आईडी से जोड़ने की तैयारी कर रहा है। इस बारे में भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अध्ययन करने के बाद मतदाता पहचान पत्र (वोटर आईडी) को आधार से जोड़ने की प्रक्रिया ‘आदेश के अनुरूप’ दोबारा शुरू की जाएगी।

Linking Voter Cards With Aadhaar Numbers Will Start Soon :

आधार को उच्चतम न्यायालय द्वारा वैध करार देने के बाद वोटर आईडी से जोड़ने के सवाल पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि – ‘यह परियोजना’ अदालत में आधार का मामला विचाराधीन होने के कारण रोकनी पड़ी थी। अब फैसले के अध्ययन के बाद अदालत के आदेश के अनुरूप इसे फिर से शुरु किया जा सकेगा।’

रावत ने कहा कि मतदाता सूची को त्रुटिहीन बनाने के लिये फरवरी 2015 में आधार से मतदाता पहचान पत्र को जोड़ने की योजना शुरु की गई। अगस्त 2015 में आधार की वैधता से जुडा मामला सर्वोच्च अदालत पहुंच गया। तब तक लगभग 33 करोड़ मतदाता पहचान पत्र आधार से जोड़े जा चुके थे।

आगामी चुनाव से पहले जोड़ने की बात पर दिया जवाब

इसे आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव से पहले पूरा करने के सवाल पर उन्होंने कहा ‘योजना को शुरू करने भर की देरी है। काम को जल्द सेजल्द पूरा करने की कोशिश होगी, देखते हैं कि कितना समय लगता है।’

नई दिल्ली। आधार पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद निवार्चन आयोग अब आधार को वोटर आईडी से जोड़ने की तैयारी कर रहा है। इस बारे में भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अध्ययन करने के बाद मतदाता पहचान पत्र (वोटर आईडी) को आधार से जोड़ने की प्रक्रिया 'आदेश के अनुरूप' दोबारा शुरू की जाएगी। आधार को उच्चतम न्यायालय द्वारा वैध करार देने के बाद वोटर आईडी से जोड़ने के सवाल पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि - 'यह परियोजना' अदालत में आधार का मामला विचाराधीन होने के कारण रोकनी पड़ी थी। अब फैसले के अध्ययन के बाद अदालत के आदेश के अनुरूप इसे फिर से शुरु किया जा सकेगा।' रावत ने कहा कि मतदाता सूची को त्रुटिहीन बनाने के लिये फरवरी 2015 में आधार से मतदाता पहचान पत्र को जोड़ने की योजना शुरु की गई। अगस्त 2015 में आधार की वैधता से जुडा मामला सर्वोच्च अदालत पहुंच गया। तब तक लगभग 33 करोड़ मतदाता पहचान पत्र आधार से जोड़े जा चुके थे। आगामी चुनाव से पहले जोड़ने की बात पर दिया जवाब इसे आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव से पहले पूरा करने के सवाल पर उन्होंने कहा 'योजना को शुरू करने भर की देरी है। काम को जल्द सेजल्द पूरा करने की कोशिश होगी, देखते हैं कि कितना समय लगता है।'