गुजरात राज्यसभा चुनाव: चुनाव आयोग का फैसला, कांग्रेस के दोनों विधायकों के वोट रद्द

नई दिल्ली। गुजरात में राज्यसभा चुनाव में तीन सीट के लिए वोटिंग के बाद बाद चुनाव आयोग ने अपने फैसले में साफ कहा कि कांग्रेस के दोनों विधायकों ने जन प्रतिनिधि कानून का उल्लंघन किया है। चुनाव आयोग ने दोनों विधायकों का वोट रद्द कर दिया है। चुनाव आयोग के इस फैसले को कांग्रेस के लिए बड़ी राहत और बीजेपी के लिए झटका माना जा रहा है। चुनाव आयोग का यह कदम कांग्रेस के लिए राहत की बात हो सकती है।

चुनाव आयोग ने अपने आदेश में साफतौर पर लिखा है कि रिटर्निंग ऑफीसर दोनों विवादित वोटों को अलग कर वोटों की गिनती कानूनी तौर पर शुरू कर सकते हैं। कांग्रेस ने यह मांग की थी कि दो विधायकों राघव पटेल और भोला भाई गोहिल के वोट रद्द किए जाए क्योंकि इन्होंने अपने मत पत्र अनाधिकृत व्यक्ति को दिखाते हुए वोट की सीक्रेसी को भंग किया था।

चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात के बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा, राज्यसभा चुनाव में मिलने जा रही हार को कांग्रेस पचा नहीं पा रही है और वह निराशा छिपाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है। प्रसाद ने बीजेपीकहा कि चुनाव आयोग ने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है।