Live: सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों ने CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ खोला मोर्चा

supreme-court-judge
Live: सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों ने CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ खोला मोर्चा

नई दिल्ली। भारत की सबसे बड़ी अदालत के चार सीनियर जजों ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर सर्वोच्च अदालत के प्रशासन में बड़े स्तर पर धांधली के आरोप लगाए हैं। जजों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के कुछ जजों ने अपनी आत्मा बेंच दी है। अगर हम समय रहते नहीं बोले तो देश में लोकतंत्र खत्म हो जाएगा।

Live Press Conference Of Four Current Judges Of The Supreme Court :

शुक्रवार को सामने आए दृश्य को न्यायपालिका के इतिहास का पहला मामला माना जा रहा है, जहां जजों ने सर्वोच्च अदालत की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। ये चार सीनियर जस्टिस हैं जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगई, जस्टिस मदन भीवाराओ लोकुर और जस्टिस कोरियन। सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस के बाद नंबर दो की हैसियत रखने वाले जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि न्यायपालिका के इतिहास में यह घटना ऐतिहासिक है।

उन्होने कहा, पहली बार सुप्रीम कोर्ट के जजों को सामने आना पड़ा है। चेलामेश्वर ने कहा कि पिछले 2 महीने से सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक से नहीं चल रहा है। चेलामेश्वर ने इस तरह चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के कामकाज पर ही सवाल उठा दिए।

मीडिया से शीर्ष अदालत के जजों की यह बातचीत अपने आप में बेहद महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक है। आमतौर पर जज मीडिया से दूरी बनाकर रखते हैं और सार्वजनिक तौर पर न्यायपालिका का पक्ष चीफ जस्टिस ही रखते रहे हैं। बता दें कि मौजूदा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और दूसरे नंबर के सीनियर जज जस्टिस चेलामेश्वर के बीच कई मुद्दों को लेकर मतभेद रहे हैं।

नई दिल्ली। भारत की सबसे बड़ी अदालत के चार सीनियर जजों ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर सर्वोच्च अदालत के प्रशासन में बड़े स्तर पर धांधली के आरोप लगाए हैं। जजों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के कुछ जजों ने अपनी आत्मा बेंच दी है। अगर हम समय रहते नहीं बोले तो देश में लोकतंत्र खत्म हो जाएगा।शुक्रवार को सामने आए दृश्य को न्यायपालिका के इतिहास का पहला मामला माना जा रहा है, जहां जजों ने सर्वोच्च अदालत की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। ये चार सीनियर जस्टिस हैं जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगई, जस्टिस मदन भीवाराओ लोकुर और जस्टिस कोरियन। सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस के बाद नंबर दो की हैसियत रखने वाले जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि न्यायपालिका के इतिहास में यह घटना ऐतिहासिक है।उन्होने कहा, पहली बार सुप्रीम कोर्ट के जजों को सामने आना पड़ा है। चेलामेश्वर ने कहा कि पिछले 2 महीने से सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक से नहीं चल रहा है। चेलामेश्वर ने इस तरह चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के कामकाज पर ही सवाल उठा दिए।मीडिया से शीर्ष अदालत के जजों की यह बातचीत अपने आप में बेहद महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक है। आमतौर पर जज मीडिया से दूरी बनाकर रखते हैं और सार्वजनिक तौर पर न्यायपालिका का पक्ष चीफ जस्टिस ही रखते रहे हैं। बता दें कि मौजूदा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और दूसरे नंबर के सीनियर जज जस्टिस चेलामेश्वर के बीच कई मुद्दों को लेकर मतभेद रहे हैं।