LIVE: दुष्कर्म मामले में राम रहीम को 10 साल की सज़ा, रहम की भीख मांगते रहें बाबा

चंडीगढ़। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दुष्कर्म मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी करार देते हुए 10 साल की सज़ा सुनाई है। फैसले के दौरान राम रहीम रहम की भीख मांगते रहें। वहीं सीबीआई की तरफ से उम्रक़ैद की मांग की जा रही थी। रोहतक स्थित सुनरिया जेल में विशेष अदालत लगाकर राम रहीम पर सुनवाई हुई। दोषी करार देने वाले जज जगदीप सिंह ने दोनों पक्षों का जिरह सुनने के बाद फैसला सुनाया। गौरतलब है कि तनावपूर्ण माहौल को देखने हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजामात थे। प्रशासन को किसी को उपद्रवी को देखे ही गोली मरने का निर्देश दिया था। पिछले 24 घंटे से पूरे जेल परिसर की सुरक्षा कड़ी करते हुए रोहतक में अर्ध सैनिक बलों की 23 कंपनियां तैनात की थी।

सुनरिया जेल में डेरा प्रमुख की सजा पर सुनवाई के दौरान बाबा के वकीलों ने बचाव पक्ष में कहा कि डेरा प्रमुख सामाजिक सरोकारों से जुड़े रहे हैं। डेरा प्रमुख के वकील एसके नरवाना ने कहा कि बाबा ने कई समाज सेवा के काम किए हैं इसलिए उन्हें कम से कम सजा दी जाए। उन्होंने बताया कि बाबा ने 133 समाज सेवा के काम किए हैं। वे नरमी के हकदार हैं। उन्होंने डेरा प्रमुख की जेल बदलने की मांग की है। वहीं सीबीआइ के वकीलों ने कहा कि वकील ने कहा कि अब कोई संशय नहीं है। साध्वियों का यौन शोषण किया गया है। भावनाओं का दोहन किया है डेरा प्रमुख है। उसे मिलने वाली सजा कम है। सीबीआइ वकीलों ने डेरा प्रमुख के लिए उम्रकैद की सजा मांगी है।

{ यह भी पढ़ें:- आखिरकार पुलिस की सख्ती के आगे हनीप्रीत ने टेक दिये घुटने, उगले कई राज }

सिरसा में हिंसक हुए समर्थक

सुनवाई के दौरान फैसला आने से पहले सिरसा में समर्थक एक बार फिर हिंसक हो गए। धारा 144 होने के बावजूद डेरा समर्थकों ने गदीयों को आग के हवाले कर दिया। फैसला आने के बाद हिंसा में और वृद्धि की खबर आ सकती है।

{ यह भी पढ़ें:- हनीप्रीत एक नाम अनेक, जाने क्या है नाम का रहस्य... }

Loading...