लॉकडाउन: लखनऊ में 2000 शादियां टलीं, दो अरब से अधिक का नुकसान, लाखों की रोजी प्रभावित

marriage
लॉकडाउन: लखनऊ में 2000 शादियां टलीं, दो अरब से अधिक का नुकसान, लाखों की रोजी प्रभावित

लखनऊ। कोरोना के कारण चल रहे लॉकडाउन का ग्रहण अप्रैल-मई में होने वाली शादियों पर भी लग गया है। सिर्फ लखनऊ में ही तकरीबन 2000 शादियां, तिलक, सगाई जैसे मांगलिक कार्यक्रम टल गए हैं। अनुमान है कि शादियां टलने से इनसे जुड़े कारोबार को लगभग दो अरब का नुकसान हो रहा है। लगभग साढ़े तीन लाख लोगों की रोजी-रोटी छिन गई है।

Lockdown 2000 Marriages Postponed In Lucknow Loss Of More Than Two Billion Loss Of Millions Affected :

अप्रैल में होने वाले सभी शुभकार्य स्थगित हैं जबकि मई की लगभग 90 प्रतिशत शादियां अब तक टाली गई हैं। होटल एवं रेस्टोरेंट एसोसिएशन लखनऊ के अध्यक्ष सुरेन्द्र शर्मा बताते हैं कि लखनऊ में छोटे-बड़े करीब 800 होटल हैं। कुछ शादियों के लिए बुक होते हैं तो कुछ सगाई, तिलक जैसे छोटे कार्यक्रमों के लिए। ताज, रेनेसां, हयात, पिकैडली, क्लार्क अवध जैसे बड़े होटल हों या सैंकड़ों की संख्या में मौजूद छोटे होटल, सभी का पूरा कारोबार ठप है।

चांसलर क्लब के मालिक जसमिन्दर सिंह बताते हैं कि उनके क्लब की अप्रैल-मई की लगभग 40 शादियां टली हैं। अब लोग नवम्बर-दिसम्बर या फिर जनवरी से मार्च 2021 के बीच की तारीखें देख रहे हैं। समस्या यह है कि उधर की तारीखों में होटल, रिजॉर्ट, कैटरर्स आदि पहले से बुक हैं। लिहाजा अप्रैल-मई में शादियां टालने वालों को इंतजार करना पड़ सकता है।

खरमास की समाप्ति के बाद 14 अप्रैल मंगलवार से विवाह की शुभ लगने प्रारंभ हो रही हैं। जो 30 जून मंगलवार आषाढ़ शुक्ल पक्ष दशमी तक रहेगी। उसके बाद 25 नवंबर की देवोत्थान एकादशी से लेकर 11 दिसंबर तक ही विवाह संपन्न होंगे। शक्ति ज्योतिष केंद्र के पंडित शक्ति धर त्रिपाठी ने बताया कि समस्त रोग नाशक श्री सूर्य देव के दैविक मंत्र का 28000 जप करके शुभ विवाह संपन्न कराए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस वर्ष नवंबर दिसंबर में कुल साथ ही तिथियां हैं। अगले वर्ष 2021 में भी जनवरी से आधे अप्रैल तक शादी की शुभ तिथि नहीं है क्योंकि गुरु शुक्र एक साथ उदय नहीं हो रहे हैं।

लखनऊ। कोरोना के कारण चल रहे लॉकडाउन का ग्रहण अप्रैल-मई में होने वाली शादियों पर भी लग गया है। सिर्फ लखनऊ में ही तकरीबन 2000 शादियां, तिलक, सगाई जैसे मांगलिक कार्यक्रम टल गए हैं। अनुमान है कि शादियां टलने से इनसे जुड़े कारोबार को लगभग दो अरब का नुकसान हो रहा है। लगभग साढ़े तीन लाख लोगों की रोजी-रोटी छिन गई है। अप्रैल में होने वाले सभी शुभकार्य स्थगित हैं जबकि मई की लगभग 90 प्रतिशत शादियां अब तक टाली गई हैं। होटल एवं रेस्टोरेंट एसोसिएशन लखनऊ के अध्यक्ष सुरेन्द्र शर्मा बताते हैं कि लखनऊ में छोटे-बड़े करीब 800 होटल हैं। कुछ शादियों के लिए बुक होते हैं तो कुछ सगाई, तिलक जैसे छोटे कार्यक्रमों के लिए। ताज, रेनेसां, हयात, पिकैडली, क्लार्क अवध जैसे बड़े होटल हों या सैंकड़ों की संख्या में मौजूद छोटे होटल, सभी का पूरा कारोबार ठप है। चांसलर क्लब के मालिक जसमिन्दर सिंह बताते हैं कि उनके क्लब की अप्रैल-मई की लगभग 40 शादियां टली हैं। अब लोग नवम्बर-दिसम्बर या फिर जनवरी से मार्च 2021 के बीच की तारीखें देख रहे हैं। समस्या यह है कि उधर की तारीखों में होटल, रिजॉर्ट, कैटरर्स आदि पहले से बुक हैं। लिहाजा अप्रैल-मई में शादियां टालने वालों को इंतजार करना पड़ सकता है। खरमास की समाप्ति के बाद 14 अप्रैल मंगलवार से विवाह की शुभ लगने प्रारंभ हो रही हैं। जो 30 जून मंगलवार आषाढ़ शुक्ल पक्ष दशमी तक रहेगी। उसके बाद 25 नवंबर की देवोत्थान एकादशी से लेकर 11 दिसंबर तक ही विवाह संपन्न होंगे। शक्ति ज्योतिष केंद्र के पंडित शक्ति धर त्रिपाठी ने बताया कि समस्त रोग नाशक श्री सूर्य देव के दैविक मंत्र का 28000 जप करके शुभ विवाह संपन्न कराए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस वर्ष नवंबर दिसंबर में कुल साथ ही तिथियां हैं। अगले वर्ष 2021 में भी जनवरी से आधे अप्रैल तक शादी की शुभ तिथि नहीं है क्योंकि गुरु शुक्र एक साथ उदय नहीं हो रहे हैं।