CM नीतीश बोले- ‘साध्वी का बयान बर्दाश्त से बाहर, पार्टी से बाहर करे BJP’

nitish kumar
CM नीतीश बोले- ‘साध्वी का बयान बर्दाश्त से बाहर, पार्टी से बाहर करे BJP’

नई दिल्ली। भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे को ‘देशभक्त’ बताने वाले बयान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि ऐसा बयान बर्दाश्त से बाहर है और बीजेपी को साध्वी को पार्टी से बाहर करने पर विचार करना चाहिए। पटना में वोट डालने के बाद नीतीश कुमार ने पत्रकारों से ये बात कही।

Lok Sabha Election 2019 Bihar Cm Nitish Kumar Election Progreme Election Commission Question :

नीतीश कुमार ने कहा कि गांधी जी को लेकर इस तरह के बयानों को कतई स्वीकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का अंदरुनी मामला है, लेकिन इस तरह के बयान के लिए उन्हें पार्टी से निकालने पर विचार करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने लोकसभा चुनाव की अवधि को लेकर कहा कि इतने लंबे वक्त इलेक्शन नहीं होने चाहिए। उन्होंने कहा कि लंबे चरणों में चुनाव नहीं होने चाहिए।

उन्होंने कहा कि आखिर 45 से 50 दिन तक चुनाव क्यों होने चाहिए? चुनाव के शांतिपूर्ण ढंग से निपटने को लेकर कहा कि अब तो शांति का ही दौर है, अशांति का दौर तो हमारे आने से पहले 15 साल तक था। नीतीश कुमार ने कहा कि मतदान के चरणों के बीच इतना लंबा गैप नहीं होना चाहिए। मैं सभी दलों के नेताओं को पत्र लिखकर इस बात पर आम सहमति बनाने का प्रयास करूंगा कि चुनाव कम वक्त में होने चाहिए।

नई दिल्ली। भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे को ‘देशभक्त’ बताने वाले बयान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि ऐसा बयान बर्दाश्त से बाहर है और बीजेपी को साध्वी को पार्टी से बाहर करने पर विचार करना चाहिए। पटना में वोट डालने के बाद नीतीश कुमार ने पत्रकारों से ये बात कही। नीतीश कुमार ने कहा कि गांधी जी को लेकर इस तरह के बयानों को कतई स्वीकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का अंदरुनी मामला है, लेकिन इस तरह के बयान के लिए उन्हें पार्टी से निकालने पर विचार करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने लोकसभा चुनाव की अवधि को लेकर कहा कि इतने लंबे वक्त इलेक्शन नहीं होने चाहिए। उन्होंने कहा कि लंबे चरणों में चुनाव नहीं होने चाहिए। उन्होंने कहा कि आखिर 45 से 50 दिन तक चुनाव क्यों होने चाहिए? चुनाव के शांतिपूर्ण ढंग से निपटने को लेकर कहा कि अब तो शांति का ही दौर है, अशांति का दौर तो हमारे आने से पहले 15 साल तक था। नीतीश कुमार ने कहा कि मतदान के चरणों के बीच इतना लंबा गैप नहीं होना चाहिए। मैं सभी दलों के नेताओं को पत्र लिखकर इस बात पर आम सहमति बनाने का प्रयास करूंगा कि चुनाव कम वक्त में होने चाहिए।