JDU का न्योता, PM मोदी के समर्थन में आएं नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी

kc tyagi
JDU का न्योता, PM मोदी के समर्थन में आएं नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 अपने मुकाम तक पहुंच गया है। 19 मई को आखिरी चरण का मतदान होने के बाद 23 मई को चुनाव के नतीजे घोषित हो जाएंगे और यह तय हो जाएगा कि देश में अगली सरकार किस दल या गठबंधन की बनने जा रही है। लेकिन नतीजों से पहले ही राजनीतिक दलों ने अपनी आने वाली रणनीति के संकेत भी देने शुरू कर दिए हैं। इसी क्रम में जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने जो संकेत दिए हैं वह आने वाली राजनीतिक रणनीति को बता रहे हैं।

Lok Sabha Election 2019 Prime Minister Post Claimants Opposition Upa Third Front Nda Politica :

केसी त्यागी ने चली नई सियासी चाल!

केसी त्यागी ने बिहार में मीडिया से बात करते हुए कहा कि बिहार, ओडिशा और आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने में कुछ टेक्निकल दिक्कतें हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि इस बार यह मुद्दा मोदी सरकार पर दबाव बनाने के लिए नहीं बल्कि कम करने के लिए हैं। इस बाबत जेडीयू नेता ने नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी को पीएम नरेन्द्र मोदी का समर्थन में साथ आने का न्योता भी दिया है।

ऐसा माना जा रहा है कि अगर एनडीए को पूर्ण बहुमत नहीं मिली और कुछ सीटों की जरूरत पड़ी तो नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी एनडीए के साथ आ सकते हैं। ऐसे में जेडीयू की ओर से इस तरह का अचानक बयान देने से सियासी हलचल तेज हो गई है। हालांकि, बीजेडी और वाईएसआर कांग्रेस की ओर से अभी तक इस मामले को लेकर कोई बयान नहीं दिया गया है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव के तहत सातवें चरण में यूपी, एमपी, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल और बिहार के 59 सीटों पर मत डाले जाएंगे। इस चरण के बाद 19 मई को ही शाम में कई एजेंसियां एग्जिट पोल के नतीजे जारी करेंगे, लेकिन फाइनल नतीजे 23 मई को आएंगे।

अगर इसमें एनडीए के सीटों की संख्या थोड़ी कम भी रह जाती है तो माना जा रहा है कि नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी एनडीए के साथ आ सकते हैं। ऐसे में नतीजों से पहले ही केसी त्यागी के इस बयान के भी मायने निकाले जा रहे हैं।

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 अपने मुकाम तक पहुंच गया है। 19 मई को आखिरी चरण का मतदान होने के बाद 23 मई को चुनाव के नतीजे घोषित हो जाएंगे और यह तय हो जाएगा कि देश में अगली सरकार किस दल या गठबंधन की बनने जा रही है। लेकिन नतीजों से पहले ही राजनीतिक दलों ने अपनी आने वाली रणनीति के संकेत भी देने शुरू कर दिए हैं। इसी क्रम में जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने जो संकेत दिए हैं वह आने वाली राजनीतिक रणनीति को बता रहे हैं। केसी त्यागी ने चली नई सियासी चाल! केसी त्यागी ने बिहार में मीडिया से बात करते हुए कहा कि बिहार, ओडिशा और आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने में कुछ टेक्निकल दिक्कतें हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि इस बार यह मुद्दा मोदी सरकार पर दबाव बनाने के लिए नहीं बल्कि कम करने के लिए हैं। इस बाबत जेडीयू नेता ने नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी को पीएम नरेन्द्र मोदी का समर्थन में साथ आने का न्योता भी दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि अगर एनडीए को पूर्ण बहुमत नहीं मिली और कुछ सीटों की जरूरत पड़ी तो नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी एनडीए के साथ आ सकते हैं। ऐसे में जेडीयू की ओर से इस तरह का अचानक बयान देने से सियासी हलचल तेज हो गई है। हालांकि, बीजेडी और वाईएसआर कांग्रेस की ओर से अभी तक इस मामले को लेकर कोई बयान नहीं दिया गया है। बता दें कि लोकसभा चुनाव के तहत सातवें चरण में यूपी, एमपी, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल और बिहार के 59 सीटों पर मत डाले जाएंगे। इस चरण के बाद 19 मई को ही शाम में कई एजेंसियां एग्जिट पोल के नतीजे जारी करेंगे, लेकिन फाइनल नतीजे 23 मई को आएंगे। अगर इसमें एनडीए के सीटों की संख्या थोड़ी कम भी रह जाती है तो माना जा रहा है कि नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी एनडीए के साथ आ सकते हैं। ऐसे में नतीजों से पहले ही केसी त्यागी के इस बयान के भी मायने निकाले जा रहे हैं।