एक बेवफा पति की सनसनीखेज दास्तान, पहले प्यार-शादी और फिर…

छपरा। कहावत है कि प्यार जब परवान चढ़ता है तो कुछ भी दिखाई नहीं देता, पर अगर इसी प्यार में बेवफाई मिलती है तो पीठ पर लगे खंजर से भी ज्यादा तकलीफ होती है। यह बात इस महिला की कहानी पढ़कर आप आसानी से समझ जाएँगे। इस कड़कड़ाती ठंड में तीन साल के बच्चे को साथ लिए यह महिला पिछले 7 दिन से अपने बेवफा पति के इंतज़ार में बैठी हुई है। पिंकी नामक महिला अपनी सूनी आंखों से कभी गेट पर लगे ताले को तो कभी सड़क को देखती है। पिंकी को उम्मीद है कि जिसने उससे सात जन्म तक साथ रहने का वादा किया हो, वह लौटकर जरूर आएगा।




दरअसल, पूरा मामला बिहार के सारण जिले के एकमा की रहने वाली पिंकी कुमारी और अभिनंदन के प्रेम प्रसंग का है। इन दोनों का प्यार 10 साल पहले परवान चढ़ा था पर शुरुआती कड़ी में ही इन्हे मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। जब पिंकी ने अपने परिजनों को अपने प्यार के बारे में बताया तो पूरा परिवार इस बात के खिलाफ खड़ा हो गया और उन्होंने पिंकी की शादी पास के ही गांव में एक युवक से कर दी थी।

इस केस में भी यही हुआ जब शादी के बाद ये दोनों एक दूसरे को भूला नहीं पाये और अक्सर एक दूसरे से मिलने लगे। एक दिन अभिनंदन के दबाव पर पिंकी ने घर से भाग शादी करने का प्लान बनाया और वो अपने पति का घर छोड़ अभिनंदन के साथ भाग शादी रचा ली। यह शादी दोनों ने परिजनों के खिलाफ जाकर की थी। शादी के चार साल बाद ही प्रेमी ने पिंकी को दगा दे दिया और अब वह अपने हक के लिए प्रेमी के घर के सामने धरने पर बैठ गई है। उसका पति अभिनंदन और उसका पूरा परिवार फरार है।




धरने पर बैठी है पिंकी को उम्मीद है कि आएगा वो

पिंकी को आज भी उम्मीद है कि वह आएगा। उसका मानना है कि वह इंसान भला ऐसा कैसे कर सकता, जो साथ जीने-साथ मरने की कसमें खाया करता था। पर एक तरफ यह भी कहना है कि अभिनंदन मेरा घर उजाड़ कर फरार हो गया है। वह जब तक मुझे और मेरे बच्चे को स्वीकार नहीं करता है मैं धरना से नहीं उठने वाली हूं। अपने पति अभिनंदन का साथ के लिए वह 22 दिसंबर से ही धरने पर बैठी है।

Loading...