आगरा एक्सप्रेस-वे पर वायुसेना की गूंज, पहली बार उतरा हरक्यूलिस विमान

लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ के आगरा एक्सप्रेस-वे पर मंगलवार को एयरफोर्स के लड़ाकू विमानों की गूंज सुनाई दी। इस दौरान वायुसेना के 20 लड़ाकू विमान उतरे गए। ऐसा पहली बार है जब किसी एक्स्प्रेस वे पर इतने लड़ाकू विमान उतारे गए हों। सबसे पहले सुपर हरक्यूलिस की लैंडिंग की हुई। इससे गरुड़ कमांडो एक्सप्रेस-वे पर उतरे।

Lucknow Air Force Fighter Planes To Hold Exercise On Agra Expressway :

भारत में पहली बार ऐसा हुआ है जब एक हरक्यूलिस विमान एक्सप्रेस वे पर लैंड किया हो। इस विमान में एक साथ 200 कमांडोज को भेजा जा सकता है जो किसी भी आपात स्थिति से निपट सकते हैं। इसके बाद तीन सुखोई विमानों ने लैंड किया और फिर टेक ऑफ किया। पिछले साल 21 नवंबर को भी इसी एक्सप्रेस वे पर टचडाउन हुआ था।

इसके बाद सुखोई 30 MKI विमान उतरा। इसकी रेंज 5200 किलोमीटर है। यह तीन हजार किलोमीटर दूर तक मार करने में सक्षम है। इसका रडार इसकी सबसे बड़ी ताकत है। यह 8 हजार किलो गोला-बारूद लेने जाने में सक्षम है। इस अभ्यास को देखने के लिए खास खास इंतजाम किए गए हैं। इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग आए हैं। लेकिन इजाजत केवल उन्हीं लोगों को दी गई है जिनके पास एंट्री पास हैं।

आपको बता दें कि इंडियन एयरफोर्स ने पिछले साल भी ऐसा किया था। 21 मई 2015 को ‘मिराज-2000’ को यमुना एक्सप्रेस-वे पर उतारा गया था।

लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ के आगरा एक्सप्रेस-वे पर मंगलवार को एयरफोर्स के लड़ाकू विमानों की गूंज सुनाई दी। इस दौरान वायुसेना के 20 लड़ाकू विमान उतरे गए। ऐसा पहली बार है जब किसी एक्स्प्रेस वे पर इतने लड़ाकू विमान उतारे गए हों। सबसे पहले सुपर हरक्यूलिस की लैंडिंग की हुई। इससे गरुड़ कमांडो एक्सप्रेस-वे पर उतरे। भारत में पहली बार ऐसा हुआ है जब एक हरक्यूलिस विमान एक्सप्रेस वे पर लैंड किया हो। इस विमान में एक साथ 200 कमांडोज को भेजा जा सकता है जो किसी भी आपात स्थिति से निपट सकते हैं। इसके बाद तीन सुखोई विमानों ने लैंड किया और फिर टेक ऑफ किया। पिछले साल 21 नवंबर को भी इसी एक्सप्रेस वे पर टचडाउन हुआ था। इसके बाद सुखोई 30 MKI विमान उतरा। इसकी रेंज 5200 किलोमीटर है। यह तीन हजार किलोमीटर दूर तक मार करने में सक्षम है। इसका रडार इसकी सबसे बड़ी ताकत है। यह 8 हजार किलो गोला-बारूद लेने जाने में सक्षम है। इस अभ्यास को देखने के लिए खास खास इंतजाम किए गए हैं। इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग आए हैं। लेकिन इजाजत केवल उन्हीं लोगों को दी गई है जिनके पास एंट्री पास हैं। आपको बता दें कि इंडियन एयरफोर्स ने पिछले साल भी ऐसा किया था। 21 मई 2015 को 'मिराज-2000' को यमुना एक्सप्रेस-वे पर उतारा गया था।