अब लखनऊ में भी लीक हो रही CDR की जानकारी, बड़ा गिरोह सक्रिय

Lucknow Crime Branch Investigation For Cdr Selling Racket

लखनऊ। दिल्ली में कॉल डाटा रिकॉर्ड (CDR) को लीक करने का एक मामला प्रकाश में आया था, जिसमें कुछ पुलिस महकमे के लोग ही संलिप्त पाए गए थे। दिल्ली के बाद अब इसकी आंच यूपी की राजधानी लखनऊ तक आ पहुंची है। लखनऊ से STF ने जिस सोना लूटकांड के आरोपी सिपाही सुशील पचौरी को गिरफ्तार किया है, उससे पूछताछ के दौरान इस बात का खुलासा हुआ है कि आरोपी ने टॉप-10 क्रिमिनल्स को सीडीआर की जानकारी दी है। इस खुलासे के बाद पुलिस टीम पड़ताल में जुट गयी है।

UP STF के हत्थे चढ़ा ये सिपाही, कारनामे जानकर हो जाएंगे हैरान

आपको बतादें कि इससे पहले कानपुर के आईजी ऑफिस के सर्विलांस सेल में तैनात सिपाही नरेंद्र को दिल्ली पुलिस ने सीडीआर की जानकारी लीक करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। पड़ताल के बाद इस बात का खुलासा हुआ था कि सीडीआर की जानकारी लीक करने वाला एक गिरोह सक्रिय है, जो कि अपराधियों को इस बात की जानकारी लीक करता है।




STF ने की थी गिरफ्तारी–

यूपी एसटीएफ़ ने पुलिस महकमे में तैनात सिपाही सुशील पचौरी को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए सिपाही के बारे में जो एसटीएफ़ ने जो खुलासे किए वो बेहद चौंकाने वाले थे। आरोपी सिपाही सुशील पचौरी मैच में सट्टा लगाने के मामले में पुलि‍स की रडार पर आया था। इस मामले की छानबीन एटीएस कर रही थी। इसी दौरान हवाला के जरिए बड़ी रकम के लेन-देन का भी खुलासा हुआ था। पूछताछ में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि सुशील ने कई अपराधियों के लिए सीडीआर की जानकारी भी लीक की है।




क्या है सीडीआर–

यदि आपके फोन की हर गतिविधी जैसे आप किस से बात कर रहे है, आपके पास किन किन लोगों के फोन आ रहे थे, आपके एसएमएस और फोन की लोकेशन भी। किसी के मोबाइल फोन की कॉल डाटा रिकार्ड निकालने से उस शख्‍स के बारे में पूरी जानकारी हो जाती है।

लखनऊ। दिल्ली में कॉल डाटा रिकॉर्ड (CDR) को लीक करने का एक मामला प्रकाश में आया था, जिसमें कुछ पुलिस महकमे के लोग ही संलिप्त पाए गए थे। दिल्ली के बाद अब इसकी आंच यूपी की राजधानी लखनऊ तक आ पहुंची है। लखनऊ से STF ने जिस सोना लूटकांड के आरोपी सिपाही सुशील पचौरी को गिरफ्तार किया है, उससे पूछताछ के दौरान इस बात का खुलासा हुआ है कि आरोपी ने टॉप-10 क्रिमिनल्स को सीडीआर की जानकारी दी है। इस…