लखनऊ: उपद्रवियों के पोस्टर लगाने पर हाईकोर्ट ने DM, CP को किया तलब, प्रियंका का सरकार पर हमला

lucknow voilecne
यूपी में दंगाइयों से हर्जाना वसूलेगी योगी सरकार, अध्यादेश को कैबिनेट से मिली मंजूरी  

लखनऊ। बीते दिनो नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुए हिंसक प्रदर्शनो के दौरान चिन्हित किये गये 53 उपद्रवियों के लखनऊ पुलिस ने हाल ही में पोस्टर लगवाये हैं। जिसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लखनऊ के डीएम व पुलिस कमिश्नर को तलब किया है। कोर्ट ने पूछा कि किस नियम के तहत ये फोटो लगाए गए हें। बता दें कि हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने इस मामले का स्वतः संज्ञान लिया है।

Lucknow High Court Summons Dm Cp For Putting Up Posters Of Miscreants Priyanka Attacked Government :

बता दें इस मामले को लेकर विपक्षी पार्टियों ने भी सवाल उठाये थे, अब कोर्ट ने भी इसे संज्ञान में ले लिया है और रविवार को इस मामले की इलाहाबाद हाई कोर्ट में सुनवाई होगी। बता दें कि लखनऊ में दिसंबर में नागिरकता कानून के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शनो में उपद्रवियों ने सरकारी संस्थाओं को नुकसान पहुंचाया था। इसी के चलते नुकसान की भरपाई के लिए तोड़फोड़ और आगजनी करने वाले 53 आरोपियों के पोस्टर लगाए गए। प्रशासन द्वारा लखनऊ के प्रमुख चौराहों पर 100 होर्डिंग्स लगाई गई हैं। इसके साथ साथ जिला प्रशासन ने चेतावनी भी दी है कि अगर तयशुदा वक्त में रिकवरी का पैसा नहीं चुकाया गया, तो कुर्की की कार्रवाई होगी।

वहीं हाई कोर्ट की सख्त टिप्पणी के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोला है। उन्होने पोस्टर की फोटो ट्वीट करते हुए लिखा, यूपी की भाजपा सरकार का रवैया ऐसा है कि सरकार के मुखिया और उनके नक्शे कदम पर चलने वाले अधिकारी खुद को बाबासाहेब अंबेडकर द्वारा बनाए गए संविधान से ऊपर समझने लगे हैं। उच्च न्यायालय ने सरकार को बताया है कि आप संविधान से ऊपर नहीं हो, आपकी जवाबदेही तय होगी।

.

लखनऊ। बीते दिनो नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुए हिंसक प्रदर्शनो के दौरान चिन्हित किये गये 53 उपद्रवियों के लखनऊ पुलिस ने हाल ही में पोस्टर लगवाये हैं। जिसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लखनऊ के डीएम व पुलिस कमिश्नर को तलब किया है। कोर्ट ने पूछा कि किस नियम के तहत ये फोटो लगाए गए हें। बता दें कि हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने इस मामले का स्वतः संज्ञान लिया है। बता दें इस मामले को लेकर विपक्षी पार्टियों ने भी सवाल उठाये थे, अब कोर्ट ने भी इसे संज्ञान में ले लिया है और रविवार को इस मामले की इलाहाबाद हाई कोर्ट में सुनवाई होगी। बता दें कि लखनऊ में दिसंबर में नागिरकता कानून के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शनो में उपद्रवियों ने सरकारी संस्थाओं को नुकसान पहुंचाया था। इसी के चलते नुकसान की भरपाई के लिए तोड़फोड़ और आगजनी करने वाले 53 आरोपियों के पोस्टर लगाए गए। प्रशासन द्वारा लखनऊ के प्रमुख चौराहों पर 100 होर्डिंग्स लगाई गई हैं। इसके साथ साथ जिला प्रशासन ने चेतावनी भी दी है कि अगर तयशुदा वक्त में रिकवरी का पैसा नहीं चुकाया गया, तो कुर्की की कार्रवाई होगी। वहीं हाई कोर्ट की सख्त टिप्पणी के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोला है। उन्होने पोस्टर की फोटो ट्वीट करते हुए लिखा, यूपी की भाजपा सरकार का रवैया ऐसा है कि सरकार के मुखिया और उनके नक्शे कदम पर चलने वाले अधिकारी खुद को बाबासाहेब अंबेडकर द्वारा बनाए गए संविधान से ऊपर समझने लगे हैं। उच्च न्यायालय ने सरकार को बताया है कि आप संविधान से ऊपर नहीं हो, आपकी जवाबदेही तय होगी। .