लखनऊ: गोमतीनगर में मैनेजर की निर्मम हत्या, ड्राईवर कार लेकर फरार

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के सबसे पॉश इलाके गोमतीनगर में एक युवक की चाकू से गोदकर निर्मम हत्या कार दी गयी। हत्यारे वारदात को अंजाम देने के बाद फरार हो गए। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने छानबीन के बाद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। इस मामले में क्राइम ब्रांच समेत साईबर सेल को पड़ताल के लिए लगाया गया  है।  पुलिस को मौके से शराब की बोतलें और एक चाकू भी बरामद हुआ है।

गोमतीनगर के विश्वास खंड-2 में अलीगंज निवासी वीरेन्द्र सिंह ने अपना मकान कुछ दिन पहले ही गोरखपुर निवासी दिलीप यादव को किराए पर दिया था। दिलीप का परिवार अक्सर यहां आकर रुकता था। देखरेख के लिए दिलीप ने अपने मैनेजर सतेंद्र कुमार सिंह (34) और ड्राइवर शाहनवाज हुसैन को मकान में रखा था। मकान में दो लग्जरी गाड़ियां इनोवा और पजेरो खड़ी रहती थी।




एएसपी दक्षिणी विजय ढुल के मुताबिक़ दिलीप किसी काम से अपने परिवार के साथ हैदराबाद गए हुए थे, आज सुबह जब दिलीप ने सत्येन्द्र के पास फोन किया तो उसका मोबाइल ऑफ बता रहा था, जिसके पास दिलीप ने ड्राईवर शाहनवाज से संपर्क किया, उसका भी मोबाइल स्विच्ड ऑफ आ रहा था। किसी अनहोनी की आशंका होने को लेकर दिलीप ने इंदिरा नगर में रहने वाले अपने दोस्त राकेश सिंह को घर भेज मामला पता करने को कहा। राकेश घर पहुंचा तो मकान का दरवाजा खुला हुआ था और ड्राइंग रूम में सतेंद्र की खून से सनी लाश पड़ी थी। राकेश ने इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची  पुलिस ने छानबीन शुरू की।

ड्राईवर कार समेत फरार—

इंस्पेक्टर गोमतीनगर राजकुमार का कहना है कि शुरूआती जांच में ड्राईवर शाहनवाज की भूमिका संदिग्ध लग रही है, ड्राईवर कार लेकर फरार हुआ है और उसका मोबाइल भी ऑफ आ रहा है। कमरे में कई शराब की बोतलें भी बरामद हुई हैं और किचन में खाना भी मिला है। जब पुलिस कमरे में दाखिल हुई तो कमरे का एसी भी चालू था और टीवी चल रही थी, जिससे साफ़ जाहिर होता है कि हत्यारे ने हत्या से पहले आवाज दबाने के लिए टीवी चालू कर रखी होगी।



15 दिन पहले हुई थी मकान में चोरी–

मृतक सत्येन्द्र जिस किराए के मकान में रह रहा था। वहां पर बीते 15 दिन पहले चोरी हुई थी। चोरी का मुकदमा गोमतीनगर थाने में पंजीकृत करवाया गया था। पुलिस इस संबंध में जांच भी कर रही थी। बताया जा रहा है कि इस मामले में शनिवार की रात को मृतक और ड्राइवर चौकी इंचार्ज से मिलने भी गए थे। इसके बाद सुबह सतेंद्र का शव मिला और ड्राइवर शहनवाज फरार हो गया है। वहीं दिलीप ने चोरी की आशंका ड्राईवर शाहनवाज के भाई पर जताई थी।

Loading...