90 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ी मेट्रो

लखनऊ| लखनऊ मेट्रो मंगलवार को 90 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार से दौड़ी| आरडीएसओ के विशेषज्ञों की टीम ने चारबाग से ट्रांसपोर्टनगर अप लाइन पर मेट्रो का अधिकतम क्षमता से ट्रायल किया| इस दौरान यह चेक किया गया कि इस स्पीड पर कहीं यात्रियों को झटके तो नहीं लगेंगे| हालांकि आरडीएसओ ने जांच में इसे सही पाया|




दरअसल, मेट्रो के संचालन से पहले उसका बहुत ही बारीकी से निरीक्षण किया जा रहा है| मंगलवार को मेट्रो की अप लाइन का परीक्षण शुरू हुआ| मेट्रो ने चारबाग से ट्रांसपोर्टनगर तक सबसे पहले 70 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से दौड़ लगाई| इसके बाद इसकी स्पीड बढ़ाकर 80 किमी प्रति घंटा की गई| इसमें सफलता मिलने पर मेट्रो की गति 90 किलोमीटर की गई। यह ट्रायल भी सफल होने पर मेट्रो को चार बार इसी स्पीड पर दौड़ाया गया| इस दौरान यह भी चेक किया गया कि तेज गति में यात्रियों को झटका तो नहीं लगेगा| फिलहाल आरडीएसओ के परीक्षण में यह मानक भी दुरुस्त पाया गया|




इसी क्रम में लगभग पांच तरह के ट्रायल अगले 10 दिन में किये जाएंगे| इन टेस्ट के आधार पर ही आरडीएसओ अपनी रिपोर्ट केंद्र को सौंपेगी जिसके बाद ही कमर्शियल रन के लिए हरी झंडी दी जा सकेगी|मेट्रो के एक अधिकारी ने बताया कि मेट्रो का ट्रायल एक सप्ताह तक चलेगा| ये ट्रायल आरडीएसओ की तरफ से किया जा रहा है| इसमें आरडीएसओ मेट्रो का ट्रायल करने के लिए अपने उपकरण लगाए हैं| ये उपकरण पटरियों और ट्रेन के पहियो में लगाए गए हैं| पहियों में सेंसर भी लगाया गया है|