चौकी में बुलाकर मां-बेटी को जड़ा थप्पड़, दी भद्दी-भद्दी गालियां

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बिगड़ी कानून व्यवस्था सुधारने के लिए सरकार लाख कोशिशें कर ले लेकिन यूपी पुलिस है कि मानती ही नहीं। आये दिन किसी ना किसी कारनामे के चलते यूपी पुलिस मीडिया की सुर्ख़ियों में बनी रहती है। ताजा मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से है जहां एक चौकी इंचार्ज पर आरोप है कि उसने एक पक्ष से पैसे लेकर दूसरे पक्ष को चौकी में बुलाकर न केवल बदसलूकी की। बल्कि चौकी में मारपीट भी की गई। फिलहाल इस मामले में एसएसपी मंजिल सैनी को प्रार्थना पत्र देकर आरोपी चौकी प्रभारी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाई की जाने की मांग की गई है। अब देखना यह होगा कि एसएसपी साहिबा इस मामले में क्या रुख अपनाती हैं? पीड़ित को न्याय दिलाती है कि पुलिस की साख बचाती हैं।

दरअसल यह मामला सूबे की राजधानी लखनऊ के मड़ियांव थाने से जुड़ा हुआ है। यहाँ के प्रीति नगर डिडौली निवासी संतोष कुमारी सोनी ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) को दिये गये प्रार्थना पत्र में बताया कि इलाके के रहने वाले एक युवक ने पुलिस के साथ मिलकर उसके बेटे को लूट के आरोप में फंसा दिया। आरोप है पुलिस ने उसके बेटे को फंसाने के लिए पैसे भी लिए। पुलिस ने विरोधी पक्ष की तहरीर पर इस मामले की पड़ताल शुरू की। चौकी प्रभारी सुरेन्द्र सोनकर ने जांच के बहाने उसे पुलिस चौकी में बुलाया। पीड़ित महिला अपनी बेटी को लेकर चौकी पहुंची। जहां चौकी प्रभारी ने उसके साथ न केवल बदसलूकी की बल्कि उसे और उसकी बेटी को थप्पड़ मारे। इतना ही नहीं मित्र पुलिस के नाम से जानी जाने वाली यूपी पुलिस के इस दरोगा ने महिला और उसकी बेटी को भद्दी-भद्दी गालियां देकर उसे चौकी से भगा दिया।

पीड़ित महिला ने बताया कि केशव नगर चौकी प्रभारी सुरेंद्र सोनकर ने उसे मामले की जांच के वास्ते उसे चौकी पर बुलाया। तो संतोष कुमारी ने अपनी 17 वर्षीय बेटी गीता सोनी और अपने पति रामानंद सोनी के साथ चौकी पहुंची। चौकी पहुंचने के बाद चौकी प्रभारी ने मामले में पूछताछ न करके उसे और उसकी बेटी व पति को भद्दी-भद्दी गालियां देना शुरू कर दिया। जब उन्होंने गालियों का विरोध किया तो संतोष कुमारी व उसकी बेटी गीता सोनी को आरोपी चौकी प्रभारी ने थप्पड़ जड़ दिया। इतना ही नहीं चौकी प्रभारी ने पीड़ित परिवार को यह धमकी देकर चौकी से भगा दिया कि यदि इसकी जानकारी किसी को दी तो ज़िन्दगी भर जेल में सड़ती रहोगी।

फिलहाल इस मामले में चौकी प्रभारी सुरेंद्र सोनकर का कहना है कि गत 19 जुलाई को प्रीति नगर के रहने वाले रामनायन मिश्रा ने छोटक्के और बड़के के खिलाफ लूटपाट व मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया था। मामले की पूछताछ के लिए आरोपी के घर गये थे। जितने भी आरोप संतोष कुमारी ने लगाये वह झूठे है। फिलहाल पीड़िता ने आरोपी चौकी प्रभारी के खिलाफ एसएसपी को प्रार्थना पत्र देकर कड़ी कार्यवाही की मांग की है। अब देखना होगा कि एसएसपी महोदया इस मामले में क्या रुख अपनाती हैं।

Loading...