फिर दागदार हुआ तहजीब का शहर, नवजातों पर कुत्तों का कहर

लखनऊ: हमारा समाज शायद आज भी बेटियों के प्रति भेदभाव और उन्हें बोझ समझने की मानसिकता से उबर नहीं पा रहा है। तहजीब का शहर एक बार फिर दागदार हुआ है। कृष्णानगर में आशाराम बापू आश्रम के पास तालाब किनारे रविवार को नवजात बच्ची का शव मिला, जिसे कुत्ते नोच रहे थे। इंसानों की भीड़ में खड़े एक शख्स ने कुत्तों को हटाया और पुलिस को सूचना दी। उधर, विभूतिखंड स्थित विजयपुर मोड़ पर सड़क पर कुत्तों के झुण्ड को देख राहगीर ने पत्थर मारकर भगाया। पास जाकर देखा तो नवजात का शव था, जिसका पैर कुत्ते खा गये थे।




कृष्णानगर स्थित एलएमआरसी डिपो के पीछे आशाराम बापू आश्रम के गेट के बगल में तालाब किनारे साड़ी में लिपटे शव पर कुत्तों का झुण्ड मंडरा रहा था। राहगीरों की भीड़ देख उधर से गुजर रहे सुनहरा अलीनगर हरिओमनगर निवासी उत्तम सिंह की नजर पड़ी तो वह रुक गया। उसने पत्थर फेंककर कुत्तों को भगाया और फिर कंट्रोल रूम पर सूचना दी। जानकारी मिलते ही उपनिरीक्षक हरिनाथ सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि कुत्ते एक पैर व चेहरा बुरी तरह नोच चुके थे। नवजात शव बच्ची का था। श्री सिंह ने गुजर रही बुजुर्ग महिलाओं से बातचीत की।

बुजुर्ग महिलाओं ने कहा कि बच्ची पूर्ण तरह से विकसित थी। दुर्गध से लग रहा है कि शव करीब एक दिन पुराना है। बुजुर्ग महिलाओं ने कहा कि शायद आज भी हमारा समाज बेटियों को बोझ मानता है, लिहाजा बच्चियां फेंकी जाती हैं। उपनिरीक्षक हरिनाथ सिंह का कहना है कि आसपास मेट्रोकर्मी की अस्थायी कालोनी बनी रखी है। वहां जाकर पूछताछ की जा रही है। घटनास्थल के आसपास कोई भी सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा है। वहीं, विभूतिखंड स्थित विजयपुर मोड़ पर सड़क पर रविवार तड़के कुत्ते नवजात के शव को नोच रहे थे। वहां से गुजर रहे शख्स ने देखा तो वह दंग रह गया। उसने आसपास पड़ा पत्थर फेंक कुत्तों को भगाया और फिर कंट्रोल रूम पर सूचना दी। जानकारी मिलते ही इंस्पेक्टर कुंवर प्रभात सिंह व उपनिरीक्षक सुजीत उपाध्याय मौके पर पहुंचे। इस दौरान वहां लोगों की भीड़ जुटने लगी थी।



उपनिरीक्षक ने बताया कि शव लड़के का था और पूर्ण रूप से विकसित था। घटनास्थल के पास झोला मिला है। माना जा रहा है कि पढ़े लिखे समाज की भीड़ में रहने वाले जाहिल ने शव को झोले में डालकर फेंका था। कुत्तों ने झोले से शव को निकाल लिया था। कुत्ते एक पैर खा गये थे। पुलिस ने राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।