अपहरण करने आये बदमाशों को पुलिस ने घेरा, 20 राउंड फायर, पांच दबोचे एक घायल

lucknow-police0

लखनऊ। यूपी की राजधानी में अपराधियों पर लगाम लगाने के लिये लखनऊ पुलिस ने कमर कस ली है। इसका ताजा उदाहरण बीती रात गाजीपुर इलाके में देखने को मिला, जहां अपहरण करने आए बदमाशों को पुलिस ने घेर कर दबोच लिया। इस दौरान दोनों तरफ से करीब 20 राउंड फायरिंग हुई। इस मुठभेड़ में एक बदमाश को भी गोली लगी है, जिसे लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने पांच बदमाशों को पकड़ा है। इनके पास से एक कार,बाइक और हथियारों की बरामदगी हुई है।

Lucknow Police Encounter Five Crooks One Injured In Encounter :

एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक, बदमाश गाजीपुर इलाके के रहने वाले खनन कारोबारी विजय गुप्ता के बेटे अंकित का अपहरण कर 10 करोड़ रुपये की फिरौती वसूलने की फिराक में थे। पुलिस लगातार एक बदमाश का मोबाइल ट्रेस कर रही थी। देर रात मुखबिर की सूचना के आधार पर पुलिस को खबर मिली कि बदमाश मुंशी पुलिया के पास हैं और वह सेक्टर 14 स्थित कारोबारी के घर के आसपास चक्कर लगा रहे हैं। इसके बाद जिले भर की पुलिस अलर्ट कर दिया गया।
इंस्पेक्टर गाजीपुर गिरजा शंकर त्रिपाठी के मुताबिक व्यापारी के बेटे अंकित को समय-समय पर अलर्ट किया जा रहा था। पूरी घटना की साजिश रचने वाले पूर्व मैनेजर विनोद रावत ने सभी बदमाशों को बुलाया था। पुलिस ने पहले से ही सारी तैयारियां करनी थी, जिसके लिए सीओ गाजीपुर की अगुवाई में एक टीम का गठन किया गया था। कुछ लोग इंडिका में सवार होकर व्यापारी का अपहरण करने जा रहे हैं।
इसी बीच पुलिस ने लोगों की घेराबंदी शुरू कर दी, जिसके जवाब में बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग की। पुलिस की जवाबी कारवाई में गोली गुड्डा नाम के बदमाश के पैर में गोली लगी, बाकी लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

ये हुई बरमदगी-
पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार सनी इलाहाबाद, गुड्डा व विनोद शर्मा नैनी, रवि बहराइच और विनोद रावत लखनऊ का रहने वाला है। एसएसपी के मुताबिक, आरोपित विनोद रावत कारोबारी के साथ काम करता था। उसकी मुखबिरी पर ही बदमाशों ने अपहरण के बाद रकम वसूलने का प्लान बनाया था। पकड़े गए सभी आरोपित बमबारी, हत्या और लूट के कई मामलों में वांछित हैं। उनके पास से एक रिवॉल्वर, पांच तमंचे, इंडिका कार और दो बाइक बरामद हुई हैं।

लखनऊ। यूपी की राजधानी में अपराधियों पर लगाम लगाने के लिये लखनऊ पुलिस ने कमर कस ली है। इसका ताजा उदाहरण बीती रात गाजीपुर इलाके में देखने को मिला, जहां अपहरण करने आए बदमाशों को पुलिस ने घेर कर दबोच लिया। इस दौरान दोनों तरफ से करीब 20 राउंड फायरिंग हुई। इस मुठभेड़ में एक बदमाश को भी गोली लगी है, जिसे लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने पांच बदमाशों को पकड़ा है। इनके पास से एक कार,बाइक और हथियारों की बरामदगी हुई है।एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक, बदमाश गाजीपुर इलाके के रहने वाले खनन कारोबारी विजय गुप्ता के बेटे अंकित का अपहरण कर 10 करोड़ रुपये की फिरौती वसूलने की फिराक में थे। पुलिस लगातार एक बदमाश का मोबाइल ट्रेस कर रही थी। देर रात मुखबिर की सूचना के आधार पर पुलिस को खबर मिली कि बदमाश मुंशी पुलिया के पास हैं और वह सेक्टर 14 स्थित कारोबारी के घर के आसपास चक्कर लगा रहे हैं। इसके बाद जिले भर की पुलिस अलर्ट कर दिया गया। इंस्पेक्टर गाजीपुर गिरजा शंकर त्रिपाठी के मुताबिक व्यापारी के बेटे अंकित को समय-समय पर अलर्ट किया जा रहा था। पूरी घटना की साजिश रचने वाले पूर्व मैनेजर विनोद रावत ने सभी बदमाशों को बुलाया था। पुलिस ने पहले से ही सारी तैयारियां करनी थी, जिसके लिए सीओ गाजीपुर की अगुवाई में एक टीम का गठन किया गया था। कुछ लोग इंडिका में सवार होकर व्यापारी का अपहरण करने जा रहे हैं। इसी बीच पुलिस ने लोगों की घेराबंदी शुरू कर दी, जिसके जवाब में बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग की। पुलिस की जवाबी कारवाई में गोली गुड्डा नाम के बदमाश के पैर में गोली लगी, बाकी लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।ये हुई बरमदगी- पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार सनी इलाहाबाद, गुड्डा व विनोद शर्मा नैनी, रवि बहराइच और विनोद रावत लखनऊ का रहने वाला है। एसएसपी के मुताबिक, आरोपित विनोद रावत कारोबारी के साथ काम करता था। उसकी मुखबिरी पर ही बदमाशों ने अपहरण के बाद रकम वसूलने का प्लान बनाया था। पकड़े गए सभी आरोपित बमबारी, हत्या और लूट के कई मामलों में वांछित हैं। उनके पास से एक रिवॉल्वर, पांच तमंचे, इंडिका कार और दो बाइक बरामद हुई हैं।