लखनऊ: जब्त गाड़ी से पिकनिक मनाने निकली पुलिस, वाहन में हुई कैद, थानेदार लाइन हाजिर

lucknow police
लखनऊ: जब्त गाड़ी से पिकनिक मनाने निकली पुलिस, वाहन में हुई कैद, थानेदार लाइन हाजिर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की पुलिस पर आज उसी का पैंतड़ा भारी पड़ गया। दरअसल थाने में जब्त की गयी गाड़ी से पुलिस कर्मी पिकनिक मनाने के लिए लखीमपुर पंहुच गये थे। लेकिन गाड़ी में जीपीएस सिस्टम लगा था जिसकी पुलिस को जानकारी नही थी। गाड़ी मालिक को पता चला तो उसने गाड़ी लॉक कर दी। फिर क्या था पुलिस वाले गाड़ी में ही कैद हो गयी। इसकी जानकारी जैसे ही सोशल मीडिया पर फैली तो लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने तत्काल प्रभाव से थाना प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया।

Lucknow Police Out For A Picnic With Seized Vehicle Imprisoned In Vehicle Police Station Spot :

मामला लखनऊ के गोमतीनगर थाने का है। बताया जा रहा है कि रविवार को पैसों के लेन देन के मामले में पुलिस ने काले रंग की स्कार्पियो गाड़ी जब्त कर ली थी। इसी का फायदा उठाते हुए कुछ कर्मी गाड़ी से लखीमपुर चले गये। लेकिन गाड़ी में जीपीएस लगा था। जैसे ही गाड़ी मालिक को पता चला तो उसने गाड़ी लॉक कर दी। गोमतीनगर पुलिस ने इसके बाद गाड़ी मालिक से मान मनौवल की लेकिन उसने सोशल मीडिया पर जानकारी साझा कर दी। मामला आला कमान में पंहुचा तो थाना प्रभारी पर इसकी गाज गिरी और उन्हे लाइन हाजिर कर दिया गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की पुलिस पर आज उसी का पैंतड़ा भारी पड़ गया। दरअसल थाने में जब्त की गयी गाड़ी से पुलिस कर्मी पिकनिक मनाने के लिए लखीमपुर पंहुच गये थे। लेकिन गाड़ी में जीपीएस सिस्टम लगा था जिसकी पुलिस को जानकारी नही थी। गाड़ी मालिक को पता चला तो उसने गाड़ी लॉक कर दी। फिर क्या था पुलिस वाले गाड़ी में ही कैद हो गयी। इसकी जानकारी जैसे ही सोशल मीडिया पर फैली तो लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने तत्काल प्रभाव से थाना प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया। मामला लखनऊ के गोमतीनगर थाने का है। बताया जा रहा है कि रविवार को पैसों के लेन देन के मामले में पुलिस ने काले रंग की स्कार्पियो गाड़ी जब्त कर ली थी। इसी का फायदा उठाते हुए कुछ कर्मी गाड़ी से लखीमपुर चले गये। लेकिन गाड़ी में जीपीएस लगा था। जैसे ही गाड़ी मालिक को पता चला तो उसने गाड़ी लॉक कर दी। गोमतीनगर पुलिस ने इसके बाद गाड़ी मालिक से मान मनौवल की लेकिन उसने सोशल मीडिया पर जानकारी साझा कर दी। मामला आला कमान में पंहुचा तो थाना प्रभारी पर इसकी गाज गिरी और उन्हे लाइन हाजिर कर दिया गया।