1. हिन्दी समाचार
  2. लखनऊ पुलिस ने ने पकड़ी 50 लाख की शराब

लखनऊ पुलिस ने ने पकड़ी 50 लाख की शराब

Lucknow Police Recovered 50 Lakh Worh Liqour

By पर्दाफाश समूह 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की इन्दिरानगर पुलिस ने रविवार को तस्करी कर बिहार और अरूणांचल प्रदेश ले जायी जा रही शराब की एक बड़ी खेप पकड़ी है। पुलिस ने शराब ले जा रहे ट्रक चालक को गिरफ्तार किया है। पूछताछ में दो लोगों का नाम सामने आया है। बरामद की गयी शराब की कीमत 50 लाख रुपये बतायी जा रही है।

पढ़ें :- ऑस्ट्रेलिया से जीत के बाद विराट कोहली ने बताया किस खिलाड़ी की वजह से मैच जीते

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि बाराबंकी घटना के बाद लगातार पुलिस अवैध शराब और उससे जुड़े कारोबार के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। इसी क्रम में रविवार को इन्दिरानगर पुलिस को सूचना मिली कि हरियाणा से भारी मात्रा में शराब तस्करी कर बाराबंकी के रास्ते बिहार जाने वाली है।

इस सूचना पर काम करते हुए इन्दिरानगर पुलिस ने फरीदीनगर नगर पिकनिक स्पाट गेट नम्बर एक के सामने से एक ट्रक को पकड़ा। पुलिस ने जब ट्रक को चेक किया तो ट्रक में 1150 पेटी हरियाणा की बनी शराब लदी थी। पुलिस ने फौरन ही ट्रक चालक हरियाणा निवासी आनंद सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ की गयी तो आनंद ने ट्रक मालिक का नाम विकास कुमार और ठेकेदार का नाम धर्मवीर बताया। इंस्पेक्टर इन्दिरानगर ने बताया कि बरामद की गयी शराब की कीमत करीब 50 लाख रुपये है।

इस तरह करते थे शराब की तस्करी
गाड़ी में शराब लोड होने के बाद गाड़ी के ड्राइवर को एक नया मोबाइल दे दिया जाता था। मोबाइल में चार से पांच नंबर फीड कर दिये जाते थे। जिस गाड़ी में शराब लदी होती है कि उस गाड़ी के आगे आगे कोई और कार चलती है जो आगे के रास्ते को बताते चलती है रास्ते में कोई खतरा नजर आता है तो ड्राइवर को सूचित कर के किसी सुरक्षित स्थान पर गाड़ी को रुकवा दी जाती है। ड्राइवर के पास लगभग असली दिखने वाले पेपर जालसाज लोग तैयार कर देते हैं उसे कहां गाड़ी रोकना है किस रास्ते से जाना है समय समय पर उसे फोन करके बताते रहते थे। बीच-बीच में ड्राइवर भी इसमें चेंज किये जाते हैं जैसा कि पकड़ी गई गाड़ी के ड्राइवर से पूछताछ करने पर पता चला। आरोपी ड्राइवर सोनीपत से इस गाड़ी में बैठा था इसके पहले कोई और ड्राइवर गाड़ी लेकर सोनीपत तक आया था। इस माल को वह बिहार और अरुणाचल प्रदेश तक ले जाने की फिराक में थे। इस तरह अगर गाड़ी पकड़ी जाती है तो ड्राइवर के पास केवल वही चार नंबर मिलते हैं जो उसके मोबाइबल में फीड रहते हैं शेष कोई जानकारी नहीं मिल पाती थी।

पढ़ें :- मनी लॉन्ड्रिंग केस : भगोड़े विजय माल्या पर शिकंजा, 14 करोड़ की प्रॉपर्टी ईडी ने की जब्त

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...