रेप का आरोपी BSP-SP गठबंधन प्रत्याशी फरार, लोग परेशान किसे करें वोट?

ghosh
रेप का आरोपी BSP-SP गठबंधन प्रत्याशी फरार, लोग परेशान किसे करें वोट?

लखनऊ। पूर्वी उत्तर प्रदेश का घोसी संसदीय क्षेत्र इन दिनों खबरों में है। यहां महागठबंधन का प्रत्याशी अतुल राय गिरफ्तारी से बचने के लिए फरार हो गए है। दरअसल, गठबंधन प्रत्याशी राय पर रेप का आरोप है और अतुल गिरफ्तारी से बचने के लिए वह फरार हैं, जबकि पुलिस उन्हें दबोचने के लिए अलग-अलग जगहों पर छापेमारी कर रही है।

Lucknow Rape Accused Bsp Candidate Atul Rai Absconding From Ghosi People Worried Whom To Vote :

मऊ सदर विधायक बाहुबली मुख्‍तार अंसारी के करीबी अतुल राय घोसी सीट से बीएसपी के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं। अतुल राय के खिलाफ वाराणसी के लंका थाने में यूपी कॉलेज की एक पूर्व छात्रा की तहरीर पर दुष्‍कर्म सहित अन्‍य आरोपों में मुकदमा होने के बाद न्‍यायिक मैजिस्‍ट्रेट (प्रथम) आशुतोष तिवारी की कोर्ट ने गिरफ्तारी के लिए गैर जमानती वॉरंट जारी किया है। राय जमानत के लिए हाई कोर्ट तक गए लेकिन उन्‍हें राहत नहीं मिली।

फिलहाल कहा जा रहा है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए राय भूमिगत हो गए हैं। इस सीट पर भाजपा जहां आक्रामक होकर अपना चुनाव प्रचार कर रही है, वहीं गठबंधन के लिए असहज स्थिति पैदा हो गई है। गठबंधन को समझ में नहीं आ रहा है कि वह राय की कमी किस तरह से पूरी करे। गठबंधन के मतदाताओं के सामने भी उलझन है कि वह फरार चल रहे प्रत्याशी के पक्ष में वोट करें अथवा उन्हें किसी और विकल्प की तलाश करनी चाहिए।

गठबंधन को भरोसा राय की गैर-मौजूदगी का नहीं होगा असर

सपा-बसपा गठबंधन का मानना है कि राय की गैर-मौजूदगी का असर उसके वोट बैंक पर नहीं पड़ेगा। गठबंधन इस सीट पर अपनी जीत का दावा कर रहा है। बसपा के जिला प्रभारी ललित कुमार अकेला गांव-गांव जाकर अपने वोटरों को भरोसे में ले रहे हैं। अकेला का कहना है कि राय कहां पर इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है लेकिन उनकी गैर-मौजूदगी का वोटरों पर कोई असर नहीं पड़ने जा रहा है क्योंकि गठबंधन का वोट पक्का है वह कहीं और नहीं जाने वाला।

घोसी सीट का चुनावी गणित

घोसी सीट पर करीब 3.5 लाख जाटव (दलित), 2 लाख यादव (ओबीसी), 1.2 लाख राजभर (ओबीसी), एक लाख नूनिया (ओबीसी) और 80 हजार गैर-जाटव दलित वोट हैं। इस सीट पर करीब 4 लाख से ऊपर सवर्ण जातियों के वोट हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा के हरिनारायण राजभर ने बसपा के दारा सिंह चौहान को हराया था। राजभर को 3,79,797 वोट और चौहान को 2,33,782 वोट मिले थे।

लखनऊ। पूर्वी उत्तर प्रदेश का घोसी संसदीय क्षेत्र इन दिनों खबरों में है। यहां महागठबंधन का प्रत्याशी अतुल राय गिरफ्तारी से बचने के लिए फरार हो गए है। दरअसल, गठबंधन प्रत्याशी राय पर रेप का आरोप है और अतुल गिरफ्तारी से बचने के लिए वह फरार हैं, जबकि पुलिस उन्हें दबोचने के लिए अलग-अलग जगहों पर छापेमारी कर रही है। मऊ सदर विधायक बाहुबली मुख्‍तार अंसारी के करीबी अतुल राय घोसी सीट से बीएसपी के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं। अतुल राय के खिलाफ वाराणसी के लंका थाने में यूपी कॉलेज की एक पूर्व छात्रा की तहरीर पर दुष्‍कर्म सहित अन्‍य आरोपों में मुकदमा होने के बाद न्‍यायिक मैजिस्‍ट्रेट (प्रथम) आशुतोष तिवारी की कोर्ट ने गिरफ्तारी के लिए गैर जमानती वॉरंट जारी किया है। राय जमानत के लिए हाई कोर्ट तक गए लेकिन उन्‍हें राहत नहीं मिली। फिलहाल कहा जा रहा है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए राय भूमिगत हो गए हैं। इस सीट पर भाजपा जहां आक्रामक होकर अपना चुनाव प्रचार कर रही है, वहीं गठबंधन के लिए असहज स्थिति पैदा हो गई है। गठबंधन को समझ में नहीं आ रहा है कि वह राय की कमी किस तरह से पूरी करे। गठबंधन के मतदाताओं के सामने भी उलझन है कि वह फरार चल रहे प्रत्याशी के पक्ष में वोट करें अथवा उन्हें किसी और विकल्प की तलाश करनी चाहिए। गठबंधन को भरोसा राय की गैर-मौजूदगी का नहीं होगा असर सपा-बसपा गठबंधन का मानना है कि राय की गैर-मौजूदगी का असर उसके वोट बैंक पर नहीं पड़ेगा। गठबंधन इस सीट पर अपनी जीत का दावा कर रहा है। बसपा के जिला प्रभारी ललित कुमार अकेला गांव-गांव जाकर अपने वोटरों को भरोसे में ले रहे हैं। अकेला का कहना है कि राय कहां पर इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है लेकिन उनकी गैर-मौजूदगी का वोटरों पर कोई असर नहीं पड़ने जा रहा है क्योंकि गठबंधन का वोट पक्का है वह कहीं और नहीं जाने वाला। घोसी सीट का चुनावी गणित घोसी सीट पर करीब 3.5 लाख जाटव (दलित), 2 लाख यादव (ओबीसी), 1.2 लाख राजभर (ओबीसी), एक लाख नूनिया (ओबीसी) और 80 हजार गैर-जाटव दलित वोट हैं। इस सीट पर करीब 4 लाख से ऊपर सवर्ण जातियों के वोट हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा के हरिनारायण राजभर ने बसपा के दारा सिंह चौहान को हराया था। राजभर को 3,79,797 वोट और चौहान को 2,33,782 वोट मिले थे।