चार घरों में डकैतों का धावा, पीड़ित ने चलाई गोली तब भागे डकैत

gudamba dacaiti 1
चार घरों में डकैतों का धावा, पीडित ने चलाई गोली तब भागे डकैत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी में बदमाशों के हौसले बुलंंद है। एक तरफ पुलिस एक के बाद एक एनकाउंटर कर बदमाशों में खौफ करने का प्रयास कर रही है, वहीं दूसरी तरफ बदमाश आए दिन दुस्साहसिक वारदाते अंजाम देकर खाकी को खुली चुनौती दे रहे हैं।

Lucknow Robber Looted Cash Jewellery Firing :

ताजा मामला गुडंबा थानाक्षेत्र का है। यहां गुरुवार रात बदमाशों ने चार घरों में धावा बोला। दो घरों से सामान बटोरने के बाद जब वो आगे बढ़े तो खटपट की आवाज सुनकर मकान मालिक की आंख खुल गई। घर में आधा दर्जन बदमाशों को देख उसने लाइसेंसी राइफल से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी। हड़कंप मचा तो बदमाश खुद घिरता देख वहां से भाग निकले।

हालाकि वो दो घरों से लाखों की नकदी व जेवरात के साथ ही कीमती सामान साथ ले गए। घटना की भनक पुलिस को लगी तो काफी देर बाद वो मौके पर पहुंची और फिर खेल शुरु कर दिया। पुलिस इस घटना को चोरी की मामूली वारदात बताकर पर्दा डालने में जुटी है।

मामला गुडंबा थानाक्षेत्र के बिबियापुर का है। यहां रहने वाले दिग्विजय सिंह उर्फ बबलू सिंह ने बताया कि वो रात में परिवार के साथ सो रहे थे। तभी उन्हे कुछ खटपट की आवाज सुनाई दी। शक होने पर वो कमरे से बाहर निकले तो घर में आधा दर्जन से ज्यादा बदमाश मौजूद थे। ये देखते ही वो कमरे में तरफ भागे और अपनी लाइसेंसी राइफल उठाकर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी।

बताया जाता है कि करीब नौ राउंड गोलियां चलने के आवाज सुनकर इलाके में हड़कंप मच गया। आसपास के लोग दौड़े बदमाश खुद को घिरता देख वहां से भाग निकले। बबलू के मुताबिक डकैत उनके घर से करीब दो लाख रूपए की नकदी, जेवरात और कीमती सामान ले गए है। बदमाशों के जाते ही पता चला कि डकैतों ने आसपास के तीन और घरों को भी अपना निशाना बनाया है। बाद में घटना की जानकारी पाकर काफी देर बाद मौके पर पहुंची पु​लिस ने डकैती की वारदात को चोरी बताने पर तुली रही।

मौके पर नही पहुंचा कोई जिम्मेदर अधिकारी
गुडंबा के बिबियापुर में गुरुवार जमकर गोलियां चली, और चार घरों में डकैती की वारदात हुई। लेकिन मौके पर पहुंचकर पीड़ितों का हाल लेने बजाय पुलिस के आलाधिकारी पुलिस वीक मनाने में व्यस्त रहे। बताते हैं कि इतनी बड़ी वारदात होने के बाद वहां सिर्फ गुडंबा इंस्पेक्टर, चौकी इंचार्ज व कुछ सिपाहियों के साथ पहुंचे। वो भी मामले की सही छानबीन करने के बजाए डकैती को चोरी साबितकरने में लगे रहे।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी में बदमाशों के हौसले बुलंंद है। एक तरफ पुलिस एक के बाद एक एनकाउंटर कर बदमाशों में खौफ करने का प्रयास कर रही है, वहीं दूसरी तरफ बदमाश आए दिन दुस्साहसिक वारदाते अंजाम देकर खाकी को खुली चुनौती दे रहे हैं।ताजा मामला गुडंबा थानाक्षेत्र का है। यहां गुरुवार रात बदमाशों ने चार घरों में धावा बोला। दो घरों से सामान बटोरने के बाद जब वो आगे बढ़े तो खटपट की आवाज सुनकर मकान मालिक की आंख खुल गई। घर में आधा दर्जन बदमाशों को देख उसने लाइसेंसी राइफल से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी। हड़कंप मचा तो बदमाश खुद घिरता देख वहां से भाग निकले।हालाकि वो दो घरों से लाखों की नकदी व जेवरात के साथ ही कीमती सामान साथ ले गए। घटना की भनक पुलिस को लगी तो काफी देर बाद वो मौके पर पहुंची और फिर खेल शुरु कर दिया। पुलिस इस घटना को चोरी की मामूली वारदात बताकर पर्दा डालने में जुटी है।मामला गुडंबा थानाक्षेत्र के बिबियापुर का है। यहां रहने वाले दिग्विजय सिंह उर्फ बबलू सिंह ने बताया कि वो रात में परिवार के साथ सो रहे थे। तभी उन्हे कुछ खटपट की आवाज सुनाई दी। शक होने पर वो कमरे से बाहर निकले तो घर में आधा दर्जन से ज्यादा बदमाश मौजूद थे। ये देखते ही वो कमरे में तरफ भागे और अपनी लाइसेंसी राइफल उठाकर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी।बताया जाता है कि करीब नौ राउंड गोलियां चलने के आवाज सुनकर इलाके में हड़कंप मच गया। आसपास के लोग दौड़े बदमाश खुद को घिरता देख वहां से भाग निकले। बबलू के मुताबिक डकैत उनके घर से करीब दो लाख रूपए की नकदी, जेवरात और कीमती सामान ले गए है। बदमाशों के जाते ही पता चला कि डकैतों ने आसपास के तीन और घरों को भी अपना निशाना बनाया है। बाद में घटना की जानकारी पाकर काफी देर बाद मौके पर पहुंची पु​लिस ने डकैती की वारदात को चोरी बताने पर तुली रही।मौके पर नही पहुंचा कोई जिम्मेदर अधिकारी गुडंबा के बिबियापुर में गुरुवार जमकर गोलियां चली, और चार घरों में डकैती की वारदात हुई। लेकिन मौके पर पहुंचकर पीड़ितों का हाल लेने बजाय पुलिस के आलाधिकारी पुलिस वीक मनाने में व्यस्त रहे। बताते हैं कि इतनी बड़ी वारदात होने के बाद वहां सिर्फ गुडंबा इंस्पेक्टर, चौकी इंचार्ज व कुछ सिपाहियों के साथ पहुंचे। वो भी मामले की सही छानबीन करने के बजाए डकैती को चोरी साबितकरने में लगे रहे।