तहजीब के शहर में इंसानियत शर्मशार, दहेजलोभियों ने बहू का सिर मुड़वा घर से भगाया

लखनऊ। दहेजलोभियों का हैवानियत भरा रूप तहजीब के शहर लखनऊ में देखने को मिला, जहां बहू को दहेज की मांग ना पूरी करने पर ससुरालीजनों द्वारा ऐसी सजा मिली जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी। आरोप है कि दहेज की मांग ना पूरी होने पर ससुर और पति ने मिलकर पीड़िता का सिर मुड़वाकर घर से भगा दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के बजाय पीड़िता को ही दोषियो ठहरा दिया। मायके पक्ष को जब मामले की भनक लगी तो उन्होने सामाजिक संगठन की मदद से मामला दर्ज कराया।

मामला लखनऊ के पारा इलाके का है। जहां कश्मीरी मोहल्ला अंगूरीबाग की रहने वाली शबनम का करीब दो वर्ष पहले पारा के डूडा कॉलोनी निवासी असलम के बेटे कासिम से निकाह हुआ था। पीड़िता का आरोप है कि रिक्शा चालक कासिम शादी के कुछ दिनों बाद ही दहेज में फ्रिज और पैसे की डिमांड करने लगा। मांग पूरी न होने पर तलाक की धमकी देने के साथ मारना-पीटना शुरू कर दिया।

ससुर पति ने दी यातनायें—

दहेज की मांग ना पूरी होने पर ससुर असलम भी शबनम को शारीरिक व मानसिक यातनाएं देने लगा। शबनम के मुताबिक रविवार आधी रात को सास ने उसके दोनों हाथ बांध दिए और ससुर ने उसके सिर मुंड कर उसे गंजा कर दिया। फिर उसके कपड़े फाड़ कर घर से बाहर निकाल दिया।

चीख-पुकार के बीच मौके पर पहुंची पारा पुलिस भी शबनम को दोषी मानते हुए थाने ले जाने लगी। मामले की जानकारी मिलते ही शबनम की मां और भाई के आने व हस्तक्षेप करने पर वह किसी तरह अपने मायके आ सकी।

पीड़िता ने बेगमात रायल फैमिली ऑफ अवध के महिला प्रकोष्ठ से मामले की शिकायत की। बेगमात रायल फैमिली की अध्यक्षा फरहाना मालिकी ने मामले की शिकायत पारा थाने में दर्ज कराई है। ससुराल में मिली यातनाओं से आहत शबनम अब ससुराल नहीं जाना चाहती। पीड़िता का कहना है कि शादी के दो साल में ही इतने जुल्म हुए कि अब ससुराल के नाम से डर लगता है।

क्या कहती है पुलिस—

पारा थाना प्रभारी पी.आर. त्रिपाठी का कहना है कि पीड़िता की तहरीर पर शिकायत दर्ज कर ली गयी है। मामले की जांच की जा रही है, दोषियों पर कार्रवाई होगी।