8 वीं फ़ैल छात्र आज बन गया करोड़पति, रिलायंस इंडस्ट्री जैसी कंपनी है क्लाइंट

trishneet-aroa-750x400

२३ वर्ष की उम्र में आज युवाओं के पास अनेक आईडिया होते है. जिनमे से कुछ अपने उस आईडिया को पूरा करने के लिए अपने कॉलेज की पढ़ाई को बीच में ही छोड़ देते है. लेकिन कुछ स्टूडेंट ऐसे होते है जिन्हें देख कर सभी को आश्चर्य होता. एक समय ऐसा भी होता जब पेरेंट्स अपने बच्चों को देखते है लेकिन असल में वह उन युवाओं के लिए इन्सिपिरशन हैं जो यह सोचते है कि वह पढ़ाई में अच्छे नहीं है. बात कर रहे है ८ वी फ़ैल छात्र की.

Ludhiana 8th Fail Student Trishneet Arora Become Crorepati Have Their Own Company Security Solutions Cyber Securit :

स्कूल ड्रॉपआउट त्रिशनित अरोरा

त्रिशनित अरोरा ८ वीं क्लास में फ़ैल होने के बाद स्कूल जाना छोड़ दिया. इसके बाद उन्होंने डिस्टेंस एजुकेशन सिस्टम के द्वारा अपनी पढ़ाई पूरी करके बीसीए पूरा किया और १९ साल की उम्र में कंप्यूटर फिक्सिंग और सॉफ्टवेयर क्लीनिंग करना सीख गए. अपने पापा के कंप्यूटर में एक्सपेरिमेंट करके देखना और यूट्यूब पर वीडियो देखकर खुद से प्रयोग करना त्रिशनित अरोरा के लिए एक नई राह खुल गई.

अपने पढ़ाई से कभी निराश नहीं होकर त्रिशनित ने आज २२ साल की उम्र में खुद की ही एक कंपनी खोल ली है. आज लुधियाना में उनका एक कॉर्पोरेट ऑफिस है जिसमे उनके ४० प्रतिशत से ज्यादा क्लाइंट्स दुबई और यूनाइटेड किंगडम से मिले है.

सिक्योरिटी सोलूशन्स एक साइबर सिक्योरिटी कंपनी है. जो नेटवर्क की संवेदनशीलता और डाटा चोरी से कंपनी को सुरक्षा प्रदान करती है. उनके क्लाइंट्स सीबीआई, गुजरात पुलिस, रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड है.

त्रिशनित अपना USA में भी अपने बिज़नेस का विस्तार करने की सोच रहे है| उनका आगे का लक्ष्य २ करोड़ टर्न ओवर का है. त्रिशनित अभी तक ३ किताबें लिख चुके है- हैकिंग टॉक विथ त्रिशनित अरोरा, द हैकिंग एरा और हैकिंग विथ स्मार्ट फ़ोन.

त्रिशनित अभी तक अपने क्लाइंट्स की साइट्स को साइबर चोरी से बचानें का काम करते है. उनका मानना हैं कि यदि साइबर अटैक होता है तो उनके सामने बहुत बड़ा मार्केट जहां पर क्लाइंट्स का बहुत ज्यादा ऑनलाइन डाटा चोरी होता है जिसे सुरक्षित कर सकते है.

२३ वर्ष की उम्र में आज युवाओं के पास अनेक आईडिया होते है. जिनमे से कुछ अपने उस आईडिया को पूरा करने के लिए अपने कॉलेज की पढ़ाई को बीच में ही छोड़ देते है. लेकिन कुछ स्टूडेंट ऐसे होते है जिन्हें देख कर सभी को आश्चर्य होता. एक समय ऐसा भी होता जब पेरेंट्स अपने बच्चों को देखते है लेकिन असल में वह उन युवाओं के लिए इन्सिपिरशन हैं जो यह सोचते है कि वह पढ़ाई में अच्छे नहीं है. बात कर रहे है ८ वी फ़ैल छात्र की.स्कूल ड्रॉपआउट त्रिशनित अरोरात्रिशनित अरोरा ८ वीं क्लास में फ़ैल होने के बाद स्कूल जाना छोड़ दिया. इसके बाद उन्होंने डिस्टेंस एजुकेशन सिस्टम के द्वारा अपनी पढ़ाई पूरी करके बीसीए पूरा किया और १९ साल की उम्र में कंप्यूटर फिक्सिंग और सॉफ्टवेयर क्लीनिंग करना सीख गए. अपने पापा के कंप्यूटर में एक्सपेरिमेंट करके देखना और यूट्यूब पर वीडियो देखकर खुद से प्रयोग करना त्रिशनित अरोरा के लिए एक नई राह खुल गई.अपने पढ़ाई से कभी निराश नहीं होकर त्रिशनित ने आज २२ साल की उम्र में खुद की ही एक कंपनी खोल ली है. आज लुधियाना में उनका एक कॉर्पोरेट ऑफिस है जिसमे उनके ४० प्रतिशत से ज्यादा क्लाइंट्स दुबई और यूनाइटेड किंगडम से मिले है.सिक्योरिटी सोलूशन्स एक साइबर सिक्योरिटी कंपनी है. जो नेटवर्क की संवेदनशीलता और डाटा चोरी से कंपनी को सुरक्षा प्रदान करती है. उनके क्लाइंट्स सीबीआई, गुजरात पुलिस, रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड है.त्रिशनित अपना USA में भी अपने बिज़नेस का विस्तार करने की सोच रहे है| उनका आगे का लक्ष्य २ करोड़ टर्न ओवर का है. त्रिशनित अभी तक ३ किताबें लिख चुके है- हैकिंग टॉक विथ त्रिशनित अरोरा, द हैकिंग एरा और हैकिंग विथ स्मार्ट फ़ोन.त्रिशनित अभी तक अपने क्लाइंट्स की साइट्स को साइबर चोरी से बचानें का काम करते है. उनका मानना हैं कि यदि साइबर अटैक होता है तो उनके सामने बहुत बड़ा मार्केट जहां पर क्लाइंट्स का बहुत ज्यादा ऑनलाइन डाटा चोरी होता है जिसे सुरक्षित कर सकते है.