1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Maa Kaalratri : माँ दुर्गा की सातवीं शक्ति हैं मां कालरात्रि, शुभंकारी देवी की कृपा से खुलने लगता है सिद्धियों का द्वार

Maa Kaalratri : माँ दुर्गा की सातवीं शक्ति हैं मां कालरात्रि, शुभंकारी देवी की कृपा से खुलने लगता है सिद्धियों का द्वार

मां दुर्गा के नौ रूपों में एक रूप मां कालरात्रि का है। देवी कालात्रि को व्यापक रूप से माता देवी - काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, मृित्यू, रुद्रानी, चामुंडा, चंडी और दुर्गा के कई विनाशकारी रूपों में से एक माना जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Maa Kaalratri : मां दुर्गा के नौ रूपों में एक रूप मां कालरात्रि का है। देवी कालात्रि को व्यापक रूप से माता देवी – काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, मृित्यू, रुद्रानी, चामुंडा, चंडी और दुर्गा के कई विनाशकारी रूपों में से एक माना जाता है। रौद्री और धुमोरना देवी कालरात्रि  के अन्य कम प्रसिद्ध नामों में हैं। नवरात्रि के सप्तमी तिथि मां कालरात्रि की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। मां कालरात्रि अपने भक्तों को सदैव शुभ फल प्रदान करने वाली हैं, इसलिए माता को शुभंकारी देवी भी कहा जाता है। मां कालरात्रि को रातरानी का फूल चढ़ाया जाता है। माता को हलवा और गुड़ का भोग लगाया जाता है।

पढ़ें :- Vastu Tips : जीवन शैली में दर्पण का विशेष महत्व है, घर में इस दिशा में लगाना चाहिए

माना जाता है कि देवी के इस रूप में सभी राक्षस,भूत, प्रेत, पिशाच और नकारात्मक ऊर्जाओं का नाश होता है, जो उनके आगमन से पलायन करते हैं। देवताओं की आराधना से प्रसन्न होकर मां भगवती ने शुंभ निशुंभ का वध करने के लिए मां कालरात्रि का रूप धारण किया।

मां कालरात्रि प्रार्थना मंत्र
एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी॥
वामपादोल्लसल्लोह लताकण्टकभूषणा।
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...