मां की लुटती इज्ज़त देख बिलखते रहे मासूम

Maan Kee Lootatee Ijzat Dekh Bilatete Rah Maasum

विशाखापत्तनम। वैसे तो आए दिन कई तरह की खबरें देखने व सुनने को मिलती है, कुछ घटनाएँ ऐसी होती है जिसे सुन हमारी रुंह काँप जाती है, कुछ ऐसी होती है जिसे पढ़ दुख भी होता है लेकिन यही भावनाएं हर इंसान के अंदर पैदा क्यों नहीं होती। क्यों हमारे ही बीच के लोग ऐसी कृत को अंजाम देते है जिसे पढ़ लगता है वाकई हमारे समाज में इंसानियत बचा ही नहीं। अब ऐसा ही मानवता को शर्मसार करने वाला मामला आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से प्रकाश में आया है जहां कुछ दरिंदों ने अपनी हवस की भूख को शांत करने के लिए सारी हदें पार करते हुए एक मां की इज्ज़त को उसके ही मासूमों के सामने तार-तार का डाला। उन दरिंदों को उन बच्चों पर तरस तक नहीं आया जो अपनी मां के साथ गलत होता देख बिलख रहे थे। क्या बिलखते मासूमों के सामने उनकी ही मां की इज्ज़त को लूटते हुए दरिंदों के हाथ नहीं काँपे होंगे? यह सब सोच कर मन सिहर जाता है लेकिन सच्चाई यही है कि ऐसी घटनाएँ आज के दौर में आम हो गयी है।

गजुवाका पुलिस थाने में मंगलवार रात को दर्ज कराई गई। शिकायत के अनुसार, घटना सोमवार की शाम उस समय हुई जब महिला का पति काम से बाहर गया हुआ था। तभी मौका पाकर 4 लोग महिला के घर में घुस गए थे। इसके बाद पीड़ित महिला से रेप किया। हैरान करने वाली बात यह है कि यह सब पीड़िता के बच्चों के सामने हुआ।

गजुवाका पुलिस थाने के निरीक्षक टी इमैनुएल राजू ने कहा, ‘इन लोगों में से 2 ने महिला के बच्चों के सामने ही उससे बलात्कार किया। उन्होंने मामले के बारे में किसी को बताने पर इसके गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी भी दी।’ पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। राजू ने कहा, ‘हमने चारों लोगों को हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ जारी है।’

विशाखापत्तनम। वैसे तो आए दिन कई तरह की खबरें देखने व सुनने को मिलती है, कुछ घटनाएँ ऐसी होती है जिसे सुन हमारी रुंह काँप जाती है, कुछ ऐसी होती है जिसे पढ़ दुख भी होता है लेकिन यही भावनाएं हर इंसान के अंदर पैदा क्यों नहीं होती। क्यों हमारे ही बीच के लोग ऐसी कृत को अंजाम देते है जिसे पढ़ लगता है वाकई हमारे समाज में इंसानियत बचा ही नहीं। अब ऐसा ही मानवता को शर्मसार करने वाला…