बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को फांसी की सजा, 32 दिनों में कोर्ट ने सुनाया फैसला

hc
बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को फांसी की सजा, 32 दिनों में कोर्ट ने सुनाया फैसला

मध्य प्रदेश। भोपाल में आठ साल की बच्ची से रेप और हत्या के दोषी विष्णु बामोरे को भोपाल अदालत ने फांसी की सज़ा सुनाई है। भोपाल के कमला नगर में आठ जून को बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। एक दिन बाद 9 जून को उसका शव नाले में मिला था। इस मामले में विष्णु को गिरफ्तार किया गया था। घटना के 32 दिन के भीतर स्पेशल जज कुमुदनी पटेल ने मामले में सुनवाई पूरी कर फैसला सुनाया है।

Madhya Pradesh Bhopal Bhopal Rape Murder Case :

कोर्ट ने विष्णु बामोरे को बच्ची के साथ ज्यादती, अप्राकृतिक कृत्य और उसके बाद हत्या की धाराओं में दोषी मानते हुए फांसी की सजा सुनाई। बता दें कि विष्णु को जब कोर्ट में पेश किया गया था तो वह रोने लगा था। उसने अदालत में कहा था कि उसे फांसी दे दी जाए।

दोषी ने सफाई में नहीं कहा कुछ

बुधवार को दोनों पक्ष की दलीलें सुनने के बाद विशेष अदालत ने विष्णु बामोरे को दोषी करार दिया था। इस दौरान कोर्ट परिसर के बाहर बच्ची के परिजन और तमाम लोग मौजूद थे। गुरुवार को सजा के ऐलान से पहले जज कुमुदिनी पटेल ने दोषी विष्णु बामोरे (35) से पूछा कि उसे अपने पक्ष में कुछ कहना है तो उसने जवाब दिया कि उसे कुछ नहीं कहना है।

पुलिस ने कहा था- एक महीने में दिलाएंगे सजा

भोपाल पुलिस ने घटना के बाद विष्णु बामोर को खंडवा से गिरफ्तार किया था। पुलिस ने कहा था कि इस मामले में एक महीने में दोषी को सजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा। इस बात को देखते हुए गिरफ्तारी के बाद तुरंत चालान पेश किया गया।

8 जून को हुई थी घटना

राजधानी के कमला नगर में बच्ची की 8 जून को दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। अगले दिन यानी 9 जून को बच्ची का शव नाले से बरामद किया गया। दोषी विष्णु बच्ची के पड़ोस में ही रहता था। बच्ची घर से कुछ सामान लेने निकली थी, तभी उसने बच्ची को बहलाकर अपने घर ले गया। पुलिस ने विष्णु के घर से बच्ची की चूड़ी और अन्य सबूत भी बरामद किए थे।

मध्य प्रदेश। भोपाल में आठ साल की बच्ची से रेप और हत्या के दोषी विष्णु बामोरे को भोपाल अदालत ने फांसी की सज़ा सुनाई है। भोपाल के कमला नगर में आठ जून को बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। एक दिन बाद 9 जून को उसका शव नाले में मिला था। इस मामले में विष्णु को गिरफ्तार किया गया था। घटना के 32 दिन के भीतर स्पेशल जज कुमुदनी पटेल ने मामले में सुनवाई पूरी कर फैसला सुनाया है। कोर्ट ने विष्णु बामोरे को बच्ची के साथ ज्यादती, अप्राकृतिक कृत्य और उसके बाद हत्या की धाराओं में दोषी मानते हुए फांसी की सजा सुनाई। बता दें कि विष्णु को जब कोर्ट में पेश किया गया था तो वह रोने लगा था। उसने अदालत में कहा था कि उसे फांसी दे दी जाए। दोषी ने सफाई में नहीं कहा कुछ बुधवार को दोनों पक्ष की दलीलें सुनने के बाद विशेष अदालत ने विष्णु बामोरे को दोषी करार दिया था। इस दौरान कोर्ट परिसर के बाहर बच्ची के परिजन और तमाम लोग मौजूद थे। गुरुवार को सजा के ऐलान से पहले जज कुमुदिनी पटेल ने दोषी विष्णु बामोरे (35) से पूछा कि उसे अपने पक्ष में कुछ कहना है तो उसने जवाब दिया कि उसे कुछ नहीं कहना है। पुलिस ने कहा था- एक महीने में दिलाएंगे सजा भोपाल पुलिस ने घटना के बाद विष्णु बामोर को खंडवा से गिरफ्तार किया था। पुलिस ने कहा था कि इस मामले में एक महीने में दोषी को सजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा। इस बात को देखते हुए गिरफ्तारी के बाद तुरंत चालान पेश किया गया। 8 जून को हुई थी घटना राजधानी के कमला नगर में बच्ची की 8 जून को दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। अगले दिन यानी 9 जून को बच्ची का शव नाले से बरामद किया गया। दोषी विष्णु बच्ची के पड़ोस में ही रहता था। बच्ची घर से कुछ सामान लेने निकली थी, तभी उसने बच्ची को बहलाकर अपने घर ले गया। पुलिस ने विष्णु के घर से बच्ची की चूड़ी और अन्य सबूत भी बरामद किए थे।