दिग्विजय सिंह ने दिया विवादित बयान, कहा- बजरंग दल और भाजपा ले रहे हैं ISI से पैसा

digvijay
दिग्विजय सिंह ने दिया विवादित बयान, कहा- बजरंग दल और भाजपा ले रहे हैं ISI से पैसा

नई दिल्ली। अपने बयानों को लेकर अकसर विवादों में रहने वाले कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह एक बार फिर विवादित बयान की वजह से सुर्खियों में हैं। दरअसल दिग्विजय सिंह ने कहा है कि बजरंग दल और भारतीय जनता पार्टी आईएसआई से पैसा ले रहे हैं। उन्होंने ये बयान मध्य प्रदेश के भिंड में दिया, जहां वो महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण करने आए थे।

Madhya Pradesh Chhattisgarh Digvijaya Singh Says Non Muslims Are Spying For Pakistans Isi More Than Muslims :

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर – बजरंग दल व बीजेपी के आईटी सेल के पदाधिकारी द्वारा ISI से पैसे लेकर पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुए मध्य प्रदेश पुलिस ने पकड़ा है। मैंने यह आरोप लगाया है जिस पर मैं आज भी क़ायम हूं। चैनल वाले ये सवाल बीजेपी से क्यों नहीं पूछते।

जम्मू कश्मीर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगर शेख अब्दुल्ला नेहरू पर विश्वास नहीं करते तो कश्मीर हमारे साथ नहीं होता। उन्होने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा, कश्मीर का हल जम्हूरियत, कश्मीरियत और इंसानियत है। मेरा मानना है कि इसी से समस्या का समाधान भी होगा।

‘संघ ने नहीं लिया आजादी की लड़ाई में भाग’

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा, बीजेपी और संघ के साथ हमारी वैचारिक लड़ाई है। इन्होंने आजादी के आंदोलन में कभी हिस्सा नहीं लिया। दिग्विजिय ने कहा, ‘1947 से पहले ये लोग कहां थे? जब इंदिरा गांधी ने पाकिस्‍तान के दो टुकड़े कर दिए थे, तब ये लोग कहां थे? इसलिए हमको सबक देने की जरूरत नहीं है।’

नई दिल्ली। अपने बयानों को लेकर अकसर विवादों में रहने वाले कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह एक बार फिर विवादित बयान की वजह से सुर्खियों में हैं। दरअसल दिग्विजय सिंह ने कहा है कि बजरंग दल और भारतीय जनता पार्टी आईएसआई से पैसा ले रहे हैं। उन्होंने ये बयान मध्य प्रदेश के भिंड में दिया, जहां वो महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण करने आए थे। दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर - बजरंग दल व बीजेपी के आईटी सेल के पदाधिकारी द्वारा ISI से पैसे लेकर पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुए मध्य प्रदेश पुलिस ने पकड़ा है। मैंने यह आरोप लगाया है जिस पर मैं आज भी क़ायम हूं। चैनल वाले ये सवाल बीजेपी से क्यों नहीं पूछते। जम्मू कश्मीर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगर शेख अब्दुल्ला नेहरू पर विश्वास नहीं करते तो कश्मीर हमारे साथ नहीं होता। उन्होने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा, कश्मीर का हल जम्हूरियत, कश्मीरियत और इंसानियत है। मेरा मानना है कि इसी से समस्या का समाधान भी होगा। 'संघ ने नहीं लिया आजादी की लड़ाई में भाग' मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा, बीजेपी और संघ के साथ हमारी वैचारिक लड़ाई है। इन्होंने आजादी के आंदोलन में कभी हिस्सा नहीं लिया। दिग्विजिय ने कहा, '1947 से पहले ये लोग कहां थे? जब इंदिरा गांधी ने पाकिस्‍तान के दो टुकड़े कर दिए थे, तब ये लोग कहां थे? इसलिए हमको सबक देने की जरूरत नहीं है।'