शौचालय में बन रहा है मिड-डे-मिल का खाना, मंत्री बोलीं-इसमें कोई दिक्कत नहीं

mide mil
शौचालय में बन रहा है मिड-डे-मिल का खाना, मंत्री बोलीं इसमें कोई दिक्कत नहीं

इंदौर। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार में मिड-डे-मिल का खाना शौचालय में बनाया जा रहा है। यह मामला मध्यप्रदेश के करैरा में स्थित एक आंगनबाड़ी केन्द्र में सामने आया। शौचालय में मिड-डे-मिल तैयार होने की खबर सामने आते ही बाल विकास मंत्री इमराती का इस मामले में विवादित बयान सामने आया। मंत्री ने कहा कि शौचालय में बन रहे मिड-डे-मिल से कोई दिक्कत नहीं है। बस शौचालय सीट और स्टोव के बीच विभाजन होना चाहिए।

Madhya Pradesh Child Development Minister Imrati Devi Disputed Statement :

मंत्री के इस बयान के बाद उनकी विपक्ष जमकर आलोचना कर रहा है। इसके साथ ही मंत्री पर कार्रवाई की मांग की जा रही है। हालांकि, मामला बढ़ते ही कमलनाथ सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं। यह मामला मध्यप्रदेश के करैरा में स्थित एक आंगनबाड़ी केन्द्र में सामने आया। मामले को लेकर बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा कि शौचलय की जिस सीट पर बर्तनों को रखा जा रहा था, उस सीट का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा था। उसे बजरी भरकर बंद किया हुआ था।

मंत्री ने कहा कि आपको समझना होगा कि इस प्रकार का विभाजन आज भी मौजूद है। यहां तक हमारे घरों में भी ऐसा है। हमारे घरों में भी शैचालय और बाथरूम एक साथ जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि, ऐसा होने पर क्या हमारे घर के रिश्तेदार खाना खाना से मना कर देते हैं कि आपके घर में बाथरूम और शौचालय एक साथ जुड़ा है।

उन्होंने आगे कहा कि अगर आंगनबाड़ी में ऐसी घटना हुई है तो इसकी जांच की जाएगी। बता दें कि करैरा के इस आंगनबाड़ी केंद्र में रसोई घर से शौचालय मिला हुआ है और वहां एलपीजी सिलेंडर का इस्तेमाल कर स्टोव पर खाना बनाया जा रहा था। खाना बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले बर्तनों को शौचालय की सीट पर रखा गया था।

इंदौर। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार में मिड-डे-मिल का खाना शौचालय में बनाया जा रहा है। यह मामला मध्यप्रदेश के करैरा में स्थित एक आंगनबाड़ी केन्द्र में सामने आया। शौचालय में मिड-डे-मिल तैयार होने की खबर सामने आते ही बाल विकास मंत्री इमराती का इस मामले में विवादित बयान सामने आया। मंत्री ने कहा कि शौचालय में बन रहे मिड-डे-मिल से कोई दिक्कत नहीं है। बस शौचालय सीट और स्टोव के बीच विभाजन होना चाहिए। मंत्री के इस बयान के बाद उनकी विपक्ष जमकर आलोचना कर रहा है। इसके साथ ही मंत्री पर कार्रवाई की मांग की जा रही है। हालांकि, मामला बढ़ते ही कमलनाथ सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं। यह मामला मध्यप्रदेश के करैरा में स्थित एक आंगनबाड़ी केन्द्र में सामने आया। मामले को लेकर बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा कि शौचलय की जिस सीट पर बर्तनों को रखा जा रहा था, उस सीट का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा था। उसे बजरी भरकर बंद किया हुआ था। मंत्री ने कहा कि आपको समझना होगा कि इस प्रकार का विभाजन आज भी मौजूद है। यहां तक हमारे घरों में भी ऐसा है। हमारे घरों में भी शैचालय और बाथरूम एक साथ जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि, ऐसा होने पर क्या हमारे घर के रिश्तेदार खाना खाना से मना कर देते हैं कि आपके घर में बाथरूम और शौचालय एक साथ जुड़ा है। उन्होंने आगे कहा कि अगर आंगनबाड़ी में ऐसी घटना हुई है तो इसकी जांच की जाएगी। बता दें कि करैरा के इस आंगनबाड़ी केंद्र में रसोई घर से शौचालय मिला हुआ है और वहां एलपीजी सिलेंडर का इस्तेमाल कर स्टोव पर खाना बनाया जा रहा था। खाना बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले बर्तनों को शौचालय की सीट पर रखा गया था।