ये हैं ‘पैड वुमेन’, अमेरिका से पढ़कर आई आदिवासी महिलाओं को कर रही हैं जागरूक

ये हैं 'पैड वुमेन', अमेरिका से पढ़कर आई आदिवासी महिलाओं को कर रही हैं जागरूक
ये हैं 'पैड वुमेन', अमेरिका से पढ़कर आई आदिवासी महिलाओं को कर रही हैं जागरूक

Madhya Pradesh Inspirational Story Of Pad Woman

भोपाल। अक्षय कुमार की बहुचर्चित फिल्म ‘पैडमैन’ 9 फरवरी को रिलीज होने वाली है। वहीं अमेरिका से लौटी मध्यप्रदेश की एक महिला वैज्ञानिक आदिवासी महिलाओं को मासिकधर्म के मुद्दे पर शिक्षित कर रही है। माया विश्वकर्मा नाम की महिला ने दो साल पहले अपने इस मिशन को शुरू किया था।

माया ने कहा, ‘मैंने 26 साल की उम्र तक सैनिटरी पैड का इस्तेमाल नहीं किया था। मैं इसके बारे में जानती तक नहीं थी और न ही मेरे पास पैड खरीदने के पैसे थे। अमेरिका से वापस अपने गांव नरसिंहपुर जिले के मेहरागांव में लौटकर आयी जीव विज्ञानी ने अपनी पूरी ऊर्जा अब आदिवासी महिलाओं को मासिकधर्म के दौरान स्वच्छता के प्रति जागरूक करने में लगा दी है।

नरसिंहपुर में कुछ इसी तरह से ग्रामीण और जनजातीय महिलाओं में सेनेटरी पैड के उपयोग को लेकर ‘पैड वूमन’ दो साल से काम कर रही है। उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, सेनफ्रांसिस्को में ब्लड कैंसर पर शोध किया है। वहां से अपने गांव मेहराखेड़ा लौटने के बाद से वे ग्रामीण क्षेत्रों में सेनेटरी पैड को लेकर महिलाओं की सोच बदलने में लगी हैं।

माया का खुद का अनुभव
स्वयं के अनुभवों ने उसे वापस अपने गांव आने के लिये प्रेरित किया। उन्होने बताया कि मैंने अपनी महिला रिश्तेदार से शुरुआती मासिकधर्म में पुराने कपड़े मांगे थे जिससे कई बार संक्रमण भी हुआ। आज भी हमारे समाज में इस विषय पर खुलकर बात नहीं होती। इसलिये अपने अनुभवों ने मुझे इस मिशन पर काम करने के लिये प्रेरित किया। वह अब अपने संगठन ‘सुकर्मा फांउडेशन’ के जरिये महिलाओं में मासिकधर्म के दौरान स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलाने में और सस्ती दरों पर उच्च गुणवत्ता के सेनेटरी पैड के निर्माण के काम में लगी हुई है।

भोपाल। अक्षय कुमार की बहुचर्चित फिल्म 'पैडमैन' 9 फरवरी को रिलीज होने वाली है। वहीं अमेरिका से लौटी मध्यप्रदेश की एक महिला वैज्ञानिक आदिवासी महिलाओं को मासिकधर्म के मुद्दे पर शिक्षित कर रही है। माया विश्वकर्मा नाम की महिला ने दो साल पहले अपने इस मिशन को शुरू किया था। माया ने कहा, 'मैंने 26 साल की उम्र तक सैनिटरी पैड का इस्तेमाल नहीं किया था। मैं इसके बारे में जानती तक नहीं थी और न ही मेरे पास पैड…