1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Mahant Narendra Giri Death : योगी सरकार गृह मंत्रालय से कर सकती है CBI जांच की सिफारिश

Mahant Narendra Giri Death : योगी सरकार गृह मंत्रालय से कर सकती है CBI जांच की सिफारिश

निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की आत्महत्या (Narendra Giri Suicide Case) के मामले में पुलिस की जांच का दायरा बढ़ता जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि महंत  नरेंद्र गिरी (Narendra Giri) की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में तफ्तीश केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) से करवाने के लिए जल्द ही यूपी की योगी सरकार (Yogi government) केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) को खत लिखकर अनुशंसा कर सकती है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

प्रयागराज। निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की आत्महत्या (Narendra Giri Suicide Case) के मामले में पुलिस की जांच का दायरा बढ़ता जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि महंत  नरेंद्र गिरी (Narendra Giri) की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में तफ्तीश केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) से करवाने के लिए जल्द ही यूपी की योगी सरकार (Yogi government) केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) को खत लिखकर अनुशंसा कर सकती है।

पढ़ें :- आफताब को 13 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया, हड्डियों का DNA श्रद्धा के पिता से हुआ मैच

भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने भी निरंजनी अखाड़े के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की आत्महत्या मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि ताकि जनता के समक्ष सच्चाई उजगार हो सके।

बता दें कि जिस तरह से सोमवार 20 सितंबर को महंत  नरेंद्र गिरी (Narendra Giri) का शव उनके कमरे में फंदे से लटका हुआ पाया गया था। बाद में करीब 8 पन्नों का सुसाइड नोट भी बरामद हुआ था। जिसके बाद ये बातें सामने आई कि उन्होंने आत्महत्या किया है, लेकिन एक संत का आत्महत्या करने का मामला किसी को विश्वास नहीं हो पा रहा है।

सुसाइड नोट पर भी उठ रहा है सवाल?

महंत नरेंद्र गिरी  (Narendra Giri)की मौत से जुड़े मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन कर दिया गया है, जिसे खुद ADG प्रेम प्रकाश और मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ एसपी सिंह मॉनिटरिंग कर रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार डॉक्टरों का पैनल गठित कर पोस्टमार्टम कराया जाएगा, उसके बाद ही मौत की असली वजह पता किया जा सकता है। फिलहाल पुलिस की टीम महंत नरेंद्र गिरी के मोबाइल फोन को भी अपने कब्जे में लेकर तफ़्तीश कर रही है। कि किन -किन लोगों से ज्यादा बातचीत होती थी और मौत के पहले आखिरी के पांच दिनों के दौरान किन लोगों से ज्यादा बातचीत हुई है। आंनद गिरी और उनके गुरु महंत नरेंद्र गिरी के बीच तल्खी के मसले पर भी पुलिस की टीम आगे तफ्तीश कर रही है।

पढ़ें :- आबकारी नीति मामले में सीबीआई ने दाखिल की चार्जशीट, मनीष सिसोदिया का नाम नहीं

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...