1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Mahant Narendra Giri Suicide: आनंद गिरि का बयान बोले मुझे फंसाने की साजिश, बरामद हुआ निष्कासन व समझौता संबंधी पत्र

Mahant Narendra Giri Suicide: आनंद गिरि का बयान बोले मुझे फंसाने की साजिश, बरामद हुआ निष्कासन व समझौता संबंधी पत्र

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध मौत (suspicious death) को लेकर पुलिस ने कहा है कि उन्होंने आत्महत्या की है। उनके कमरे से सुसाइड नोट (Suicide note) भी मिला है। पुलिस ने महंत नरेन्द्र गिरि (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध मौत से जुड़े मामले की जांच शुरू कर दी है।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

प्रयागराज: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध मौत (suspicious death) को लेकर पुलिस ने कहा है कि उन्होंने आत्महत्या की है। उनके कमरे से सुसाइड नोट (Suicide note) भी मिला है। पुलिस ने महंत नरेन्द्र गिरि (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध मौत से जुड़े मामले की जांच शुरू कर दी है।

पढ़ें :- Sushant के बाद इस फेमस एक्ट्रेस की घर में फंदे से झूलती मिली लाश, Suicide note में लिखी ये बात

आपको बता दें, प्रयागराज के एसएसपी‍ त्रिपाठी (SSP Tripathi) ने भी आत्महत्या (Suicide) की पुष्टि की है। इस बीच पुलिस के मुताबिक महंत ने अपने सुसाइड नोट में पूरी वसीयत लिखी हुई थी। उसमें शिष्य आनंद गिरि का जिक्र भी था साथ ही साथ आद्या तिवारी को हिरासत में लिया है।

खबरों की माने तो अब महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के सुसाइड (Suicide) के बाद उनके विवादित शिष्य आनंद गिरि (Anand giri) का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि गुरुजी नरेंद्र गिरि सुसाइड (Narendra giri suicide) नहीं कर सकते हैं। उनके सुसाइड नोट (Suicide note) में लिखी हैंडराइटिंग की जांच होनी चाहिए। कुछ लोगों ने गुरुजी को मारकर मुझे फंसाने का प्रयास किया है।

आनंद गिरि ने कहा कि यह मठ-मंदिरों का षड्यंत्र है। कुछ लोग मठ-मंदिरों का पैसा साजिश के तहत अपने घरों पर पहुंचा रहे थे। जिनकी 2000 की आमदनी नहीं थी, उनके 5 करोड़ और 8 करोड़ रुपए के मकान हो गए। जिन लोगों ने गुरुजी को ब्लैकमेल करके पैसा कमाया है, वही इस हत्या के पीछे हैं। इसमें मठ के लड़के और अधिकारियों का हाथ हो सकता है।

पढ़ें :- Breaking news- बलबीर गिरि होंगे महंत नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी, पंच परमेश्वरों ने वसीयत केआधार पर लिया फैसला

आनंद गिरि ने कहा कि मैं उनका प्रिय शिष्य हूं, मेरा अब कोई मतभेद नहीं था उनसे। आनंद ने सीधे तौर पर कुछ लोगों के नाम लिए हैं और हत्या की आशंका जाहिर करते हुए उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड पुलिस ने आनंद गिरि को हिरासत में ले लिया है।

अन्य शिष्यों पर लगा आरोप

एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि महंत नरेन्द्र गिरि के शिष्य आनंद गिरि को हिरासत में लिया गया है। कुछ अन्य शिष्यों पर भी आरोप हैं। आनंद गिरि को उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार में हिरासत में लिया है।

हालांकि माफी मांगने के बाद उन्हें वापस ले लिया गया था। पुलिस ने घटनास्थल से 12 पेज का सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। बताया जा रहा है कि यह सुसाइड नोट वसीयत की तरह से है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...