1. हिन्दी समाचार
  2. अन्य खबरें
  3. महराजगंज:तानाशाह सीडीओ के खिलाफ पत्रकारों ने दिया धरना,राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को संबोधित एडीएम को सौंपा ज्ञापन

महराजगंज:तानाशाह सीडीओ के खिलाफ पत्रकारों ने दिया धरना,राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को संबोधित एडीएम को सौंपा ज्ञापन

By Editor-Vijay Chaurasiya 
Updated Date

महराजगंज: जर्नलिस्ट्स प्रेस क्लब महराजगंज के तत्वावधान में जनपद के पत्रकारों का गुस्सा बुधवार को मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल के तानाशाही रवैये के खिलाफ फूट पड़ा। पत्रकारों ने जिला कलेक्ट्रेट पर धरना प्रदर्शन करते हुए राज्यपाल और मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी को सौंपा।

पढ़ें :- India-China Border Dispute: विदेश मंत्री एस जयशंकर बोले- हम चीन के साथ खराब दौर से गुजर रहे हैं

इस दौरान पत्रकारों ने कहा कि जनपद के अधिकारी यह भूल गए है कि देश में लोकतंत्र है ना कि नौकरशाही तंत्र।
बताते चले कि बीते 17 नवम्बर को फरेंदा में आयोजित तहसील दिवस के दौरान एक समाचार पत्र के सवांददाता से मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल ने अमर्यादित व्यवहार करते हुए अपशब्द बोला था।

जिस पर जनपद के समस्त पत्रकारों ने विरोध किया था। वही एक शिष्ट मंडल भी जिलाधिकारी से मिलकर सीडीओ के दुर्व्यवहार की जानकारी दी। लेकिन इसके बाबजूद भी सीडीओ तानाशाही व्यवहार में किसी प्रकार का अंतर नही लाये जो निरंकुश होने और लालफीता शाही के व्यवहार को परिलक्षित करता है। लिहाजा बुधवार को कलेक्ट्रेट कार्यालय पर जनपद के पत्रकार सीडीओ के विरोध में इक्क्ठा हो गये।

इस दौरान जर्नलिस्ट्स प्रेस क्लब के अध्यक्ष अजय कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि सीडीओ पवन अग्रवाल यह भूल गए है कि देश में लोकतंत्र है नौकर शाही तंत्र नही है और लोकतंत्र में अधिकारी को सभी का बात सुनना होता है। एक तरफ देश के प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पत्रकारों के सम्मान और सुरक्षा के लिए तरह तरह की कवायद कर रहे है तो दूसरी तरफ ऐसे अधिकारी ना सिर्फ तानाशाह होने का परिचय दे रहे है बल्कि जमीनी हकीकत में देश और प्रदेश की सरकार की छवि धूमिल कर रहे है। संरक्षक जेपी सिंह ने कहा कि ऐसे अधिकारियों पर लगाम लगाने की जरूरत है जो अपनी गरिमा और मर्यादा भूल गए है।

पढ़ें :- Lala Lajpat Rai Death Anniversary : एक महान स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने साइमन कमीशन के खिलाफ उठाई थी आवाज

संरक्षक सुनील श्रीवास्तव ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि यह अधिकारी जानबूझकर योजनाबद्ध तरीके से पत्रकारों का अपमान कर सरकार को बदनाम कर रहे है। संरक्षक अनिल वर्मा और शैलेश पांडेय ने कहा कि सीडीओ का विवादों से नाता है जो काम को कम अभिमान को ज्यादा तवज्जो देते है। महामंत्री विनय नायक ने कहा कि सीडीओ के खिलाफ क्लब हर स्तर पर संघर्ष करेगा।

इस दौरान सदर तहसील अध्यक्ष विपिन श्रीवास्तव, सुनील पाठक,राजेश कुमार वैश्य अतुल जायसवाल, राकेश अग्रहरी, सत्यप्रकाश मद्देशिया, रवि सिंह, सुशील शुक्ला, विजय चौरसिया, गुड्डु जायसवाल, राजेश जायसवाल, गुलाम मुस्तफा इंद्रीशी,हैदर अली, रामकिशुन राम,विवेक जायसवाल, हरीनारायण यादव, जितेंद्र बहादुर शाही, पुनीत वर्मा,नवीन किशन मार्तण्ड विजय, वेदप्रकाश उमेश, मोहम्मद आरिफ,आकाश त्रिपाठी अभिषेक श्रीवास्तव, जितेन्द्र निषाद, चंदन, राकेश पांडेय, शिव श्रीवास्तव, उमाकान्त चौधरी दीपक, राकेश प्रजापति आकाश, विपिन सिंह, अर्जुन मौर्य,नवीन, डॉ सतीश पांडेय सहित काफी संख्या में पत्रकार मौजूद रहे।

पढ़ें :- mysterious baikal lake : अनोखी झील में हवा में लटके है पत्थर, हैरान कर देने वाले इस रहस्य से अब उठ गया पर्दा
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...