ऑनर किलिंग: तीन दलित युवकों की निर्मम हत्या में 6 को सजा-ए-मौत

ऑनर किलिंग महाराष्ट्र , 6 को सजा ए मौत , तीन दलित युवक की हत्या , मृत्युदंड की सजा , Honor Killing Maharashtra, 6 death sentence, death of three Dalit youths, death sentence
ऑनर किलिंग: तीन दलित युवकों के निर्मम हत्या में 6 को सजा-ए-मौत

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के अहमदनगर में 2013 में तीन दलित युवकों के ऑनर किलिंग मामले में स्थानीय अदालत ने सभी छह दोषियों को मृत्युदंड की सजा सुनाई है। नासिक जिला सत्र अदालत ने सोमवार को बहुप्रतीक्षित फैसले में छह को दोषी माना था जबकि एक को बरी कर दिया था।

Maharashtra 6 Get Death For Honour Killing :

विशेष सरकारी अभियोजक उज्‍जवल निकम ने कहा कि प्रत्येक दोषी को 20,000 रुपये का जुर्माना भरने और सरकार को पीड़ितों के परिवारों को यह मुआवजा देने के निर्देश दिए हैं। हालांकि, मुआवजे की कुछ राशि पहले ही पीड़ित परिवार को दी जा चुकी है। इस मामले में जिन लोगों को मृत्युदंड की सजा सुनाई गई है। उनमें पोपट वी.दरांडाले, गणेश पी.दरांडाले, प्रकाश वी.दरांडाले, रमेश वी.दरांडाले, अशोक नवागिरे और संदीप कुरहे हैं।

सचिन घारू सहित दलित युवकों को पोपट वी.दरांडाले ने सोनई गांव में मौत के घाट उतार दिया था। सचिन, पोपट वी.दरांडाले की बेटी से प्यार करता था। अन्य दोषियों में लड़की का भाई गणेश और परिवार के अन्य लोग और दोस्त शामिल थे।मामले में एक सहओरापी अशोक आर.फाल्के को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के अहमदनगर में 2013 में तीन दलित युवकों के ऑनर किलिंग मामले में स्थानीय अदालत ने सभी छह दोषियों को मृत्युदंड की सजा सुनाई है। नासिक जिला सत्र अदालत ने सोमवार को बहुप्रतीक्षित फैसले में छह को दोषी माना था जबकि एक को बरी कर दिया था।विशेष सरकारी अभियोजक उज्‍जवल निकम ने कहा कि प्रत्येक दोषी को 20,000 रुपये का जुर्माना भरने और सरकार को पीड़ितों के परिवारों को यह मुआवजा देने के निर्देश दिए हैं। हालांकि, मुआवजे की कुछ राशि पहले ही पीड़ित परिवार को दी जा चुकी है। इस मामले में जिन लोगों को मृत्युदंड की सजा सुनाई गई है। उनमें पोपट वी.दरांडाले, गणेश पी.दरांडाले, प्रकाश वी.दरांडाले, रमेश वी.दरांडाले, अशोक नवागिरे और संदीप कुरहे हैं।सचिन घारू सहित दलित युवकों को पोपट वी.दरांडाले ने सोनई गांव में मौत के घाट उतार दिया था। सचिन, पोपट वी.दरांडाले की बेटी से प्यार करता था। अन्य दोषियों में लड़की का भाई गणेश और परिवार के अन्य लोग और दोस्त शामिल थे।मामले में एक सहओरापी अशोक आर.फाल्के को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया।