महाराष्ट्र : मंत्री पद न मिलने से नाराज कांग्रेस विधायक कैलाश गोरंट्याल देंगे इस्तीफा

kailash mla
महाराष्ट्र : मंत्री पद न मिलने से नाराज कांग्रेस विधायक कैलाश गोरंट्याल देंगे इस्तीफा

नई दिल्ली। महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) में मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज जालना (Jalna) से कांग्रेस विधायक (Congress MLA) कैलाश गोरंट्याल ने कहा कि वह पार्टी के कई पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं के साथ पार्टी पदों से इस्तीफा दे देंगे। मैं तीसरी बार विधयाक चुना गया हूं और मैंने अपने लोगों के लिए काम किया है। फिर भी मुझे मंत्री नहीं बनाया गया।  

Maharashtra Congress Mla Kailash Gorantyal Resigned Over Not Getting Ministerial Post :

गोरंट्याल ने बताया कि उन्होंने यह फैसला जिला कांग्रेस कमिटी की शनिवार को हुई मीटिंग में लिया है। उन्होंने बताया कि वह पार्टी के प्रदेश प्रमुख बालासाहेब थोराट से मिलेंगे और उन्हें पार्टी के पदों से अपना इस्तीफा सौंपेंगे। गोरंट्याल के अलावा जालना के म्युनिसिपल काउंसिल और जिला परिषद के कांग्रेसी भी अपना इस्तीफा सौंपेंगे। विधायक ने दावा कि जालना में सभी तहसीलों के कांग्रेस पदाधिकारियों ने पहले ही पद छोड़ दिया था।

‘पार्टी ने नहीं किया न्याय’

गोरंट्याल का कहना है कि पार्टी ने उन्हें उपेक्षित रखा और उनके साथ इंसाफ नहीं किया। बता दें कि गोरंट्याल जालना में शिवसेना के अर्जुन कोटकर को विधानसभा चुनाव में हराकर विधायक बने थे। जालना कांग्रेस के अध्यक्ष शेख महमूद ने बताया कि गोरंट्याल तीन बार से विधायक हैं और उन्होंने जिले में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए बहुत काम किया है। उन्होंने गोरंट्याल का समर्थन करते हुए कहा, ‘हमने पार्टी नेतृत्व को अपना इस्तीफा सौंपने का फैसला किया है।’  

नई दिल्ली। महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) में मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज जालना (Jalna) से कांग्रेस विधायक (Congress MLA) कैलाश गोरंट्याल ने कहा कि वह पार्टी के कई पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं के साथ पार्टी पदों से इस्तीफा दे देंगे। मैं तीसरी बार विधयाक चुना गया हूं और मैंने अपने लोगों के लिए काम किया है। फिर भी मुझे मंत्री नहीं बनाया गया।   गोरंट्याल ने बताया कि उन्होंने यह फैसला जिला कांग्रेस कमिटी की शनिवार को हुई मीटिंग में लिया है। उन्होंने बताया कि वह पार्टी के प्रदेश प्रमुख बालासाहेब थोराट से मिलेंगे और उन्हें पार्टी के पदों से अपना इस्तीफा सौंपेंगे। गोरंट्याल के अलावा जालना के म्युनिसिपल काउंसिल और जिला परिषद के कांग्रेसी भी अपना इस्तीफा सौंपेंगे। विधायक ने दावा कि जालना में सभी तहसीलों के कांग्रेस पदाधिकारियों ने पहले ही पद छोड़ दिया था। 'पार्टी ने नहीं किया न्याय' गोरंट्याल का कहना है कि पार्टी ने उन्हें उपेक्षित रखा और उनके साथ इंसाफ नहीं किया। बता दें कि गोरंट्याल जालना में शिवसेना के अर्जुन कोटकर को विधानसभा चुनाव में हराकर विधायक बने थे। जालना कांग्रेस के अध्यक्ष शेख महमूद ने बताया कि गोरंट्याल तीन बार से विधायक हैं और उन्होंने जिले में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए बहुत काम किया है। उन्होंने गोरंट्याल का समर्थन करते हुए कहा, 'हमने पार्टी नेतृत्व को अपना इस्तीफा सौंपने का फैसला किया है।'