महाराष्ट्र संकट: शिवसेना ने BJP पर बोला हमला, कहा, जब NDA की नींव रखी गई तब मौजूदा नेता कहीं के नहीं थे

Shivsena
महाराष्ट्र संकट: शिवसेना ने BJP पर बोला हमला, कहा जब NDA की नींव रखी गई तब मौजूदा नेता कहीं के नहीं थे

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध के बीच शिवसेना ने मुखपृष्ठ ‘सामना’ के जरिए बीजेपी पर हमला बोला है। शिवसेना ने संपादकीय में हिंदुत्व और राष्ट्रवाद का जिक्र करते हुए लिखा है कि जब आपने जन्म भी नहीं लिया था, तब हमने हिंदुत्व का समर्थन किया था। संपादकीय में आगे लिखा गया है कि जो लोग एनडीए से हमें निष्कासित बता रहे हैं, उन्हें इतिहास से सबक लेना चाहिए। संघ परिवार को चलाने वाले हम ही हैं। जब बाला साहेब ठाकरे, अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, प्रकाश सिंह बादल और जॉर्ज फर्नांडीस ने एनडीए की नींव रखी, तो मौजूदा नेता कहीं नहीं थे।

Maharashtra Crisis Shiv Sena Attacked Bjp Said When The Foundation Of Nda Was Laid Then The Current Leaders Were Nowhere :

बता दें इससे पहले रविवार को संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा था कि लोकसभा में शिवसेना को विपक्षी खेमे में सीटें आवंटित की जा रही हैं, क्योंकि वह कांग्रेस और राकांपा के साथ गठबंधन कर रही है। जोशी ने कहा था कि शिवसेना के मंत्री ने एनडीए सरकार से इस्तीफा दे दिया है। वे एनडीए की बैठक में भी शामिल नहीं हुए। महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन कर रहे हैं। इसलिए यह स्वाभाविक है कि दोनों सदनों में विपक्ष की ओर से उन्हें सीटें आवंटित की जाएंगी। इस पर सामना ने जवाब दिया कि एक प्रह्लाद जोशी ने यह कहा है कि वह स्पष्ट रूप से शिवसेना की भावना और एनडीए के कार्यों से अवगत नहीं हैं। एक समय था जब कोई भी भाजपा के बगल में खड़ा नहीं होता था।

बता दें कि महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद के बंटवारे की मांग को लेकर शिवसेना और भाजपा के बीच दशकों पुराना गठबंधन टूट गया। शिवसेना अब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस के साथ राज्य में गैर-भाजपा सरकार बनाने के लिए बातचीत कर रही है। वहीं केंद्रीय मंत्रिपरिषद में इकलौते शिवसेना के मंत्री अरविंद सावंत ने पिछले सोमवार को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। पार्टी संसद के शीतकालीन सत्र की पूर्व संध्या पर एनडीए के घटक दलों की बैठक से भी दूर रही थी।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध के बीच शिवसेना ने मुखपृष्ठ 'सामना' के जरिए बीजेपी पर हमला बोला है। शिवसेना ने संपादकीय में हिंदुत्व और राष्ट्रवाद का जिक्र करते हुए लिखा है कि जब आपने जन्म भी नहीं लिया था, तब हमने हिंदुत्व का समर्थन किया था। संपादकीय में आगे लिखा गया है कि जो लोग एनडीए से हमें निष्कासित बता रहे हैं, उन्हें इतिहास से सबक लेना चाहिए। संघ परिवार को चलाने वाले हम ही हैं। जब बाला साहेब ठाकरे, अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, प्रकाश सिंह बादल और जॉर्ज फर्नांडीस ने एनडीए की नींव रखी, तो मौजूदा नेता कहीं नहीं थे। बता दें इससे पहले रविवार को संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा था कि लोकसभा में शिवसेना को विपक्षी खेमे में सीटें आवंटित की जा रही हैं, क्योंकि वह कांग्रेस और राकांपा के साथ गठबंधन कर रही है। जोशी ने कहा था कि शिवसेना के मंत्री ने एनडीए सरकार से इस्तीफा दे दिया है। वे एनडीए की बैठक में भी शामिल नहीं हुए। महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन कर रहे हैं। इसलिए यह स्वाभाविक है कि दोनों सदनों में विपक्ष की ओर से उन्हें सीटें आवंटित की जाएंगी। इस पर सामना ने जवाब दिया कि एक प्रह्लाद जोशी ने यह कहा है कि वह स्पष्ट रूप से शिवसेना की भावना और एनडीए के कार्यों से अवगत नहीं हैं। एक समय था जब कोई भी भाजपा के बगल में खड़ा नहीं होता था। बता दें कि महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद के बंटवारे की मांग को लेकर शिवसेना और भाजपा के बीच दशकों पुराना गठबंधन टूट गया। शिवसेना अब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस के साथ राज्य में गैर-भाजपा सरकार बनाने के लिए बातचीत कर रही है। वहीं केंद्रीय मंत्रिपरिषद में इकलौते शिवसेना के मंत्री अरविंद सावंत ने पिछले सोमवार को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। पार्टी संसद के शीतकालीन सत्र की पूर्व संध्या पर एनडीए के घटक दलों की बैठक से भी दूर रही थी।