महाराष्ट्र चुनाव-शिवसेना ने जारी किया घोषणा पत्र

Shiv Sena
महाराष्ट्र चुनाव-शिवसेना ने जारी किया घोषणा पत्र

मुम्बई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर शिवसेना ने अपना घोषणा पत्र जारी किया है। यह घोषणा पत्र आदित्य ठाकरे की अगुवाई में शनिवार को जारी किया गया। इस मेनिफेस्टो में बाला साहेब ठाकरे और उद्धव ठाकरे की तस्वीरे लगाई गयी है। इस बार के मेनिफेस्टो में शिवसेना ने हर जिले में एक महिला बचत घर, आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए महाविद्यालय, कामकाजी महिलाओं के लिए सरकारी हॉस्टल, रोजगार और स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को दुरुस्त करने की बात कही है।

Maharashtra Election Shiv Sena Has Released Manifesto :

 

इस मौके पर आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमने पहले मेनिफेस्टो को अलग अलग इलाकों के हिसाब से बनाया था लेकिन जो मेनिफेस्टो लॉन्च किया गया है वह पूरे प्रदेश के लिए है। उनका कहना था कि शिवसेना अभी भी आरे को वन क्षेत्र बनाना चाहती है। वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने इस दौरान कहा कि शिवसेना पर हमेशा यह आरोप लगता रहा कि हम क्षेत्रवादी और धर्मनिरपेक्ष राजनीति करते हैं। यही नही हमपर भूमि पुत्र का मुद्दा भी उठाया जाता था। उनका कहना है कि कांग्रेस और एनसीपी बेकार हो गए हैं, इसलिए इस तरह के आरोप लगाते रहते हैं।

शिवसेना द्वारा बताया ​गया कि इस बार का घोषणा पत्र काफी रिसर्च करके तैयार किया गया है। बिजली का बिल घटाने, खाना 10 रूपये में मुहैया कराने जैसी बातो का ​भी इस घोषणा पत्र में जिक्र किया गया है। हालांकि इस दौरान उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर पर कुछ भी बोलना उचित नही समझा।

मुम्बई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर शिवसेना ने अपना घोषणा पत्र जारी किया है। यह घोषणा पत्र आदित्य ठाकरे की अगुवाई में शनिवार को जारी किया गया। इस मेनिफेस्टो में बाला साहेब ठाकरे और उद्धव ठाकरे की तस्वीरे लगाई गयी है। इस बार के मेनिफेस्टो में शिवसेना ने हर जिले में एक महिला बचत घर, आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए महाविद्यालय, कामकाजी महिलाओं के लिए सरकारी हॉस्टल, रोजगार और स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को दुरुस्त करने की बात कही है।   इस मौके पर आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमने पहले मेनिफेस्टो को अलग अलग इलाकों के हिसाब से बनाया था लेकिन जो मेनिफेस्टो लॉन्च किया गया है वह पूरे प्रदेश के लिए है। उनका कहना था कि शिवसेना अभी भी आरे को वन क्षेत्र बनाना चाहती है। वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने इस दौरान कहा कि शिवसेना पर हमेशा यह आरोप लगता रहा कि हम क्षेत्रवादी और धर्मनिरपेक्ष राजनीति करते हैं। यही नही हमपर भूमि पुत्र का मुद्दा भी उठाया जाता था। उनका कहना है कि कांग्रेस और एनसीपी बेकार हो गए हैं, इसलिए इस तरह के आरोप लगाते रहते हैं। शिवसेना द्वारा बताया ​गया कि इस बार का घोषणा पत्र काफी रिसर्च करके तैयार किया गया है। बिजली का बिल घटाने, खाना 10 रूपये में मुहैया कराने जैसी बातो का ​भी इस घोषणा पत्र में जिक्र किया गया है। हालांकि इस दौरान उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर पर कुछ भी बोलना उचित नही समझा।