1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. अहमदनगर रैली में बोलें मोदी, कहा- तय करें ईमानदार चौकीदार चाहिए या भ्रष्टाचारी नामदार

अहमदनगर रैली में बोलें मोदी, कहा- तय करें ईमानदार चौकीदार चाहिए या भ्रष्टाचारी नामदार

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीजेपी की जीत के लिए धुआंधार चुनावी रैली कर रहे हैं. इसी क्रम में पीएम मोदी ने आज (12 अप्रैल) महाराष्‍ट्र के अहमदनगर में चुनावी रैली की।  

इस दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि रिमोट से चलने वाली सरकार में हर दिन घोटाले हुए। अब यह आपको तय करना है कि ईमानदार चौकीदार चाहिए या भ्रष्टाचारी नामदार। मोदी आज केरल और कर्नाटक में भी रैलियां करेंगे।

उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस और एनसीपी ऐसे लोगों के साथ खड़ी है, जो कह रहे हैं कि जम्मू कश्मीर को भारत से अलग कर देंगे और जम्मू कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री होना चाहिए। मुझे कांग्रेस से कोई उम्मीद नहीं है क्योंकि ये सब उन्हीं की पैदावार हैं।

पीएम मोदी ने रैली में कहा कि बीते पांच वर्ष में जनभागीदार से चलने वाली एक मजबूत और निर्णय लेने वाली सरकार दुनिया ने भारत में देखी है। उससे पहले 10 वर्ष तक रिमोट वाली सरकार के दिनों में हर दिन घोटालों और घपलों की खबरें आती थीं। आज दुनिया भारत को महाशक्ति के रूप में देख रही है।

आतंक के सरपरस्त अब डरने लगे

मोदी ने कहा, “दुनिया ने भारत में बीते 5 साल में जनभागीदार से चलने वाली एक मजबूत, निर्णय लेने वाली सरकार देखी है। उससे पहले 10 वर्ष तक रिमोट वाली सरकार के दिनों में हर दिन घोटालों, घपलों की खबरें आती थीं। आज दुनिया भारत को महाशक्ति के रूप में देख रही है।”

आपको तय करना है कि ईमानदार चौकीदार चलेंगे या फिर भ्रष्टाचारी नामदार। हिंदुस्तान के हीरो चलेंगे या पाकिस्तान के पैरवीकार। ये चौकीदार उन्हें पाताल से भी खोजकर निकाल लाएगा और उन्हें सजा देगा। इस चौकीदार ने आतंक के सरपरस्तों में ये डर बैठाया है कि उनकी एक भी गलती भारी पड़ेगी।

 एनसीपी की महामिलावट और एनडीए के बुलंद इरादे

कांग्रेस एनसीपी की सरकार में कभी मुंबई में बम धमाके, कभी पुणे में, कभी ट्रेन में, कई बसों में धमाके होते थे। लेकिन पिछले पांच साल में ये बम धमाके बंद हो गए हैं। आज एक तरफ कांग्रेस, एनसीपी की महामिलावट के खोखले वादे हैं और दूसरी तरफ एनडीए के बुलंद इरादे हैं।

कांग्रेस और एनसीपी ऐसे लोगों के साथ खड़ी है, जो कह रहे हैं कि जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग कर देंगे और वहां अलग प्रधानमंत्री होना चाहिए। मुझे कांग्रेस से कोई उम्मीद नहीं है क्योंकि ये सब उन्हीं की पैदावार हैं। लेकिन शरद राव क्यों चुप हैं?

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...