महाराष्ट्र: संजय राउत बोले, राष्ट्रपति शासन लगा तो यह जनादेश का अपमान होगा

Sanjay raut
महाराष्ट्र: संजय राउत बोले, राष्ट्रपति शासन लगा तो यह जनादेश का अपमान होगा

मुंबई। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर भाजपा-शिवसेना में अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। शुक्रवार को शिवेसना सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगता है तो यह जनादेश का अपमान होगा। महाराष्ट्र कभी दिल्ली के सामने नहीं झुकेगा।

Maharashtra Sanjay Raut Said If Presidents Rule Is Imposed Then It Will Be An Insult To The Mandate :

बता देें कि राज्य की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को समाप्त हो रहा है। सरकार गठन को लेकर चल रहे प्रयासों का आज अंतिम दिन माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी शुक्रवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर सकते हैं।

गडकरी और ठाकरे की मुलाकात कि सवाल पर संजय राउत ने कहा कि गडकरी जी का घर मुंबई के वर्ली में है। उन्हें यहां आने से कोई नहीं रोक सकता। अगर उनके पास शिवसेना को ढाई साल मुख्यमंत्री पद देने का कोई खत हो तो यह जानकारी मैं उद्धवजी को दे दूंगा। शिवसेना ने साफ किया है कि आज वह राज्यपाल से मुलाकात नहीं करेगी। राउत ने कहा कि हम राज्यपाल के अगले निर्णय का इंतजार करेंगे।

वहीं गुरुवार की आधी रात शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे होटल में ठहरे विधायकों से मिलने पहुंचे। इसके अलावा वरिष्ठ नेता रामदास कदम और एकनाथ शिंदे भी होटल पहुंचे। तीनों नेताओं ने करीब 90 मिनट तक विधायकों से बातचीत की। बताया जा रहा है कि विधायक अगले 2 दिन तक और इसी होटल में रहेंगे।

सरकार गठन कि लिए सिर्फ ए​क दिन बचा
9 नवंबर को देवेंद्र फडणवीस के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यकाल समाप्त हो रहा है। यदि आज कोई भी पार्टी या गठबंधन सरकार नहीं बनाती है तो महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग सकता है। 24 अक्टूबर को राज्य विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद से राज्य में सरकार बनाने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

मुंबई। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर भाजपा-शिवसेना में अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। शुक्रवार को शिवेसना सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगता है तो यह जनादेश का अपमान होगा। महाराष्ट्र कभी दिल्ली के सामने नहीं झुकेगा। बता देें कि राज्य की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को समाप्त हो रहा है। सरकार गठन को लेकर चल रहे प्रयासों का आज अंतिम दिन माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी शुक्रवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर सकते हैं। गडकरी और ठाकरे की मुलाकात कि सवाल पर संजय राउत ने कहा कि गडकरी जी का घर मुंबई के वर्ली में है। उन्हें यहां आने से कोई नहीं रोक सकता। अगर उनके पास शिवसेना को ढाई साल मुख्यमंत्री पद देने का कोई खत हो तो यह जानकारी मैं उद्धवजी को दे दूंगा। शिवसेना ने साफ किया है कि आज वह राज्यपाल से मुलाकात नहीं करेगी। राउत ने कहा कि हम राज्यपाल के अगले निर्णय का इंतजार करेंगे। वहीं गुरुवार की आधी रात शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे होटल में ठहरे विधायकों से मिलने पहुंचे। इसके अलावा वरिष्ठ नेता रामदास कदम और एकनाथ शिंदे भी होटल पहुंचे। तीनों नेताओं ने करीब 90 मिनट तक विधायकों से बातचीत की। बताया जा रहा है कि विधायक अगले 2 दिन तक और इसी होटल में रहेंगे। सरकार गठन कि लिए सिर्फ ए​क दिन बचा 9 नवंबर को देवेंद्र फडणवीस के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यकाल समाप्त हो रहा है। यदि आज कोई भी पार्टी या गठबंधन सरकार नहीं बनाती है तो महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग सकता है। 24 अक्टूबर को राज्य विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद से राज्य में सरकार बनाने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।