महाराष्ट्र: फ्लोर टेस्ट में उद्धव सरकार पास पर नही मिला भाई राज का साथ

Bhai Raj did not support
महाराष्ट्र: फ्लोर टेस्ट में उद्धव सरकार पास पर नही मिला भाई राज का साथ

मुम्बई। महाराष्ट्र विधानसभा में आज उद्धव सरकार ने फ्लोर टेस्ट तो पास कर लिया है लेकिन उनके पक्ष में भाई राज की पार्टी के विधायक ने समर्थन नही दिया। हालांकि बहुमत के लिए 145 विधायकों का समर्थन चाहिए था, बीजेपी के वॉकआउट करने के बाद उद्धव सरकार के पक्ष में 169 विधायकों ने वोट किया। वहीं विधानसभा में मौजूद चार अन्य विधायक तटस्थ रहे। आपको बता दें तटस्थ का मतलब है कि उन विधायकों ने किसी भी पक्ष में वोट नहीं डाला है।

Maharashtra Uddhav Sarkar Passes In Floor Test Bhai Raj Did Not Support :

राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के विधायक राजू पाटिल भी तटस्थ रहे, उनके साथ साथ ओवैसी की पार्टी एमआईएम के 2 और सीपीआईएम का एक विधायक शामिल है। इन विधायकों ने किसी को भी वोट नहीं दिया। आज विधानसभा की शुरूवात में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपना और अपने मंत्रिमंडल के 6 सदस्यों का सभी से परिचय कराया। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की अगुवाई में बीजेपी सदस्यों ने हंगामा करते हुए कहा कि विशेष सत्र के आयोजन में नियमों का उल्लंघन किया गया है।

फडणवीस द्वारा लगायी गयी आपत्ति को प्रोटेम स्पीकर दिलीप वलसे पाटिल ने खारिज कर दिया और कहा ​कि विशेष सत्र का आयोजन राज्यपाल कोश्यारी के निर्देशों के अनुसार किया गया है। देवेंद्र फडणवीस की आपत्ति थी कि स्पीकर के चुनाव से पहले बहुमत परीक्षण नहीं होना चाहिए। इसके बाद बीजेपी विधायक विधानसभा में हंगामा करने लगे। वह हंगामा करते रहे इसी बीच उद्धव सरकार ने बहुमत साबित करना शुरू किया कर दिया, यह देखते ही बीजेपी ने सदन से वॉक आउट कर दियां।

मुम्बई। महाराष्ट्र विधानसभा में आज उद्धव सरकार ने फ्लोर टेस्ट तो पास कर लिया है लेकिन उनके पक्ष में भाई राज की पार्टी के विधायक ने समर्थन नही दिया। हालांकि बहुमत के लिए 145 विधायकों का समर्थन चाहिए था, बीजेपी के वॉकआउट करने के बाद उद्धव सरकार के पक्ष में 169 विधायकों ने वोट किया। वहीं विधानसभा में मौजूद चार अन्य विधायक तटस्थ रहे। आपको बता दें तटस्थ का मतलब है कि उन विधायकों ने किसी भी पक्ष में वोट नहीं डाला है। राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के विधायक राजू पाटिल भी तटस्थ रहे, उनके साथ साथ ओवैसी की पार्टी एमआईएम के 2 और सीपीआईएम का एक विधायक शामिल है। इन विधायकों ने किसी को भी वोट नहीं दिया। आज विधानसभा की शुरूवात में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपना और अपने मंत्रिमंडल के 6 सदस्यों का सभी से परिचय कराया। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की अगुवाई में बीजेपी सदस्यों ने हंगामा करते हुए कहा कि विशेष सत्र के आयोजन में नियमों का उल्लंघन किया गया है। फडणवीस द्वारा लगायी गयी आपत्ति को प्रोटेम स्पीकर दिलीप वलसे पाटिल ने खारिज कर दिया और कहा ​कि विशेष सत्र का आयोजन राज्यपाल कोश्यारी के निर्देशों के अनुसार किया गया है। देवेंद्र फडणवीस की आपत्ति थी कि स्पीकर के चुनाव से पहले बहुमत परीक्षण नहीं होना चाहिए। इसके बाद बीजेपी विधायक विधानसभा में हंगामा करने लगे। वह हंगामा करते रहे इसी बीच उद्धव सरकार ने बहुमत साबित करना शुरू किया कर दिया, यह देखते ही बीजेपी ने सदन से वॉक आउट कर दियां।