महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस-NCP को दिया झटका, NPR शुरू करने को दी मंजूरी

Maharashtra
महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस-NCP को दिया झटका, NPR शुरू करने को दी मंजूरी

मुम्बई। महाराष्ट्र में इस समय कांग्रेस-NCP-शिवसेना गठबंधन की सरकार है लेकिन कुछ समझौतों को लेकर तीनो पार्टियों के बीच समय समय पर मतभेद होता नजर आता है। कुछ दिनो पहले जब नागरिकता संशोधन कानून लागू हुआ तो तीनो पार्टियों में एकमत नजर आ रहा था लेकिन जब सरकार ने एनपीआर लाने की बात कही तो तीनो पार्टियों में एकबार फिर मतभेद नजर आ रहा है। जहां एक तरफ कांग्रेस और एनसीपी खुलकर एनपीआर का विरोध कर रही हैं वहीं उद्धव ठाकरे ने NPR शुरू करने को मंजूरी दे दी है। हालांकि अभी तक उद्धव सरकार ने कोई ऐलान नही किया लेकिन सूत्रो के अनुसार उद्धव ने निर्णय ले लिया है।

Maharashtra Uddhav Thackeray Gives A Shock To Congress Ncp Approval To Start Npr :

महाराष्ट्र में लगातार महाविकास अघाडी के साझेदारों शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच तनातनी बढ़ती दिख रही है। मुख्यमंत्री एवं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एल्गार परिषद् मामले में यू टर्न लेने के बाद अब एनसीपी और कांग्रेस की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) पर आगे बढ़ने का फैसला लिया है।

सूत्रोंके मुताबिक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य में 1 मई से एनपीआर की प्रक्रिया शुरू करना चाहते हैं। वहीं कांग्रेस और एनसीपी इसका विरोध जता रहे हैं। कांग्रेस एनपीआर को एनआरसी का मुखौटा बता रही है, वहीं एनसीपी ने भी इस पर घोर आपत्ति जताई है। वहीं एनसीपी नेता माजिद मेमन का कहना है कि एनसीपी कभी भी एनपीआर का समर्थन नही करेगी, इस पर तीनो पार्टियों के बीच अभी बातचीत की जायेगी।

मुम्बई। महाराष्ट्र में इस समय कांग्रेस-NCP-शिवसेना गठबंधन की सरकार है लेकिन कुछ समझौतों को लेकर तीनो पार्टियों के बीच समय समय पर मतभेद होता नजर आता है। कुछ दिनो पहले जब नागरिकता संशोधन कानून लागू हुआ तो तीनो पार्टियों में एकमत नजर आ रहा था लेकिन जब सरकार ने एनपीआर लाने की बात कही तो तीनो पार्टियों में एकबार फिर मतभेद नजर आ रहा है। जहां एक तरफ कांग्रेस और एनसीपी खुलकर एनपीआर का विरोध कर रही हैं वहीं उद्धव ठाकरे ने NPR शुरू करने को मंजूरी दे दी है। हालांकि अभी तक उद्धव सरकार ने कोई ऐलान नही किया लेकिन सूत्रो के अनुसार उद्धव ने निर्णय ले लिया है। महाराष्ट्र में लगातार महाविकास अघाडी के साझेदारों शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच तनातनी बढ़ती दिख रही है। मुख्यमंत्री एवं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एल्गार परिषद् मामले में यू टर्न लेने के बाद अब एनसीपी और कांग्रेस की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) पर आगे बढ़ने का फैसला लिया है। सूत्रोंके मुताबिक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य में 1 मई से एनपीआर की प्रक्रिया शुरू करना चाहते हैं। वहीं कांग्रेस और एनसीपी इसका विरोध जता रहे हैं। कांग्रेस एनपीआर को एनआरसी का मुखौटा बता रही है, वहीं एनसीपी ने भी इस पर घोर आपत्ति जताई है। वहीं एनसीपी नेता माजिद मेमन का कहना है कि एनसीपी कभी भी एनपीआर का समर्थन नही करेगी, इस पर तीनो पार्टियों के बीच अभी बातचीत की जायेगी।