1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Mahavir jayanti 2022 : इस दिन है  महावीर जयंती, तीर्थंकर के पंचशील सिद्धांत  के बारे में जानें

Mahavir jayanti 2022 : इस दिन है  महावीर जयंती, तीर्थंकर के पंचशील सिद्धांत  के बारे में जानें

भगवान महावीर  जैन धर्म के चौबीसवें  तीर्थंकर थे। उन्हें  12 वर्षो की कठिन तपस्या के बाद  केवलज्ञान प्राप्त हुआ । महावीर जयंती चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाई जाती है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Mahavir jayanti 2022 : भगवान महावीर  जैन धर्म के चौबीसवें  तीर्थंकर थे। उन्हें  12 वर्षो की कठिन तपस्या के बाद  केवलज्ञान प्राप्त हुआ । महावीर जयंती चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाई जाती है। इस साल  जैन धर्म के पूजनीय भगवान महावीर स्वामी का जन्मदिन 14 अप्रैल दिन गुरुवार को मनाया जाएगा। इस साल महावीर स्वामी का 2620 वां जन्म दिवस मनाया जाएगा।

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: माघ शुक्ल पक्ष दशमी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

जैन समाज द्वारा महावीर स्वामी के जन्मदिवस को महावीर-जयंती तथा उनके मोक्ष दिवस को दीपावली के रूप में धूमधाम से मनाया जाता है।तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म 599 ईसा पूर्व बिहार के कुंडलपुर के राजघराने में हुआ था। इनके माता का नाम त्रिशला और पिता सिद्धार्थ थे।श्वेतांबर परम्परा के अनुसार इनका विवाह यशोदा नामक सुकन्या के साथ सम्पन्न हुआ था और कालांतर में प्रियदर्शिनी नाम की कन्या उत्पन्न हुई जिसका युवा होने पर राजकुमार जमाली के साथ विवाह हुआ।

भगवान महावीर ने जैन धर्म के प्रचार एवं प्रसार के काम किए हैं। उन्होंने दुनिया को पंचशील सिद्धांत दिया। पंचशील सिद्धांत के पांच प्रमुख बातें सत्य, अहिंसा, अचौर्य (अस्तेय) यानी चोरी नहीं करना, अपरिग्रह यानी विषय एवं वस्तुओं के प्रति आसक्त न हों और ब्रह्मचर्य है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...