इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में मजबूत दावेदारी के लिए महिन्द्रा और फोर्ड ने मिलाया हाथ

इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में मजबूत दावेदारी के लिए महिन्द्रा और फोर्ड ने मिलाया हाथ

नई दिल्ली। भारत की जानी मानी वाहन निर्माता कंपनी महिन्द्रा एंड महिन्द्रा और अमेरिकी की फोर्ड मोटर कंपनी ने इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में वैश्विक संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए हाथ मिला लिया है। दोनों कं​पनियों ने साझा बयान जारी करते हुए बताया कि इलेक्ट्रिक वाहनों के वैश्विक बाजार को देखते हुए कंपनियों ने साथ आने का फैसला किया है। जिसके तहत आने वाले तीन सालों तक कंपनियां तकनीकि विकास, उत्पादन और मार्केटिंग के क्षेत्र में एक साथ काम करेंगी। इस समय सीमा के बाद दोनों कंपनियां भविष्य की रणनीति तैयार करेंगी।

महिन्द्रा के प्रवक्ता का कहना है कि इलेक्ट्रिक वाहनों के बढ़ते बाजार को ध्यान में देखते हुए की गई इस साझेदारी के अच्छे परिणाम सामने आएगें। फोर्ड के साथ पहले भी महिन्द्रा की साझेदारी रह चुकी है जिसके अनुभव के आधार पर यह कहा जा सकता है कि इस नए क्षेत्र की असीम संभावनाओं और चुनौतियों का नई साझेदारी के साथ सामना करना आसान होगा। दोनों कंपनियां बेहतर तकनीकि विकसित करने से लेकर उसके उत्पादन और वितरण के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित करने में कामयाब होंगी। यह साझेदारी दोनों कंपनियों के लिए नई उपलब्धियां लेकर आएगी।

{ यह भी पढ़ें:- Paytm मॉल पर दोपहिया वाहन बुक करें, पाएं आकर्षक ईनाम }

आॅटोमोबाइल बाजार के जानकार इस साझेदारी को नई तकनीकि के विकास और मार्केटिंग के नजरिए से अलग भी देख रहे हैं। यह समझौता दोनों की कंपनियों की जरूरत के हिसाब से बेहद फायदेमंद है। एक ओर फोर्ड आॅटो कंपनी है जो भारत में 2 बिलियन डॉलर का निवेश करने के बाद भी अभी तक मुनाफे के रास्ते तलाश रही है। फोर्ड ने भारत में एक बड़ी उत्पादक क्षमता वाला कारखाना लगा रखा है, लेकिन भारतीय बाजार में कंपनी की बेहद छोटी हिस्सेदारी के चलते यह कारखाना अपनी क्षमता से लगभग आधे ही वाहनों का उत्पादन कर रहा है। वहीं भारत के बाजार पर मजबूत पकड़ वाली महिन्द्रा कंपनी के सामने की चुनौती वैश्विक बाजार है। जहां फोर्ड के पास अपना मजबूत नेटवर्क है।

इस नजरिए से देखा जाए तो इस साझेदारी के तहत विकासित होने वाली तकनीकि के तहत बनने वाले इलेक्ट्रिक वाहनों को असेंबल करने का काम फोर्ड के कारखाने में​ किया जाएगा। भारतीय बाजार में अपनी मजबूत पकड़ के सहारे महिन्द्रा इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनी पुरानी रेंज के साथ जोड़कर स्थानीय बाजार में मजबूती के साथ उतारेगी। वहीं अन्य देशों में वह इस काम के लिए फोर्ड के ब्रांड और वितरण नेटवर्क का फायदा उठाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- GST सही या गलत गुजरात चुनाव के नतीजे बताएंगे: अरुण जेटली }