महोबा में किशोरी ने किया आत्मदाह

महोबा: महोबा में एक मानसिक रूप से विक्षिप्त किशोरी की संदिग्ध अवस्था में आग से जलकर मौत हो गई। सूना घर पाकर किशोरी ने बंद कमरे में मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली। घटना के समय किशोरी की माँ मजदूरी करने गई थी जबकि छोटा भाई ट्यूशन पढ़ने गया था। ट्यूशन पढ़कर लौटे भाई ने घर से उठती गंध मिलते ही चौक गया और शोर मचाकर आस पड़ोस के लोगों को बुलाया। वहीँ घटना की सुचना कोतवाली पुलिस को दी गई, मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा खोलकर शव कब्जे लिया और पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस घटना की जाँच में जुट गई है।




महोबा शहर कोतवाली के शेखूनगर मोहल्ले में एक 18 वर्षीय किशोरी ने खुद को कमरे में बंद कर आग लगा ली। जिसकी मौके पर ही मौत हो गयी। बताया जा रहा है कि युवती मानसिक रूप से विक्षिप्त थी और घटना के वक्त घर में कोई भी मौजूद नहीं था। मृतका की माँ मजदूरी करने गयी हुई थी। मृतका का एक छोटा भाई था जो ट्यूशन पढने कोचिंग गया हुआ था। जब ट्यूशन पढ़ कर मृतका का भाई आया तो उसने दरवाजे से आवाज दी। जब दरवाजा नहीं खुला तो दीवार में बने छेद से झांखकर देखने की कोशिश की तो उसको तेज दुर्गन्ध आयी। उसने पास पड़ोस के लोगों को बुलाया और अपनी माँ को सूचना दी।




लोगो ने कमरे की टीनशेड को खोलकर देखा तो युवती पूरी तरह जलकर दम तोड़ चुकी थी। परिजनों ने थाना पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने टीनशेड से चढ़ दरवाजा खोलवाया और शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वही मामले को संदिग्ध देखते हुए पुलिस जांच में जुटी है।जबकि मृतका के भाई ने बताया कि युवती मानसिक रूप से बीमार चल रही थी। जिसका इलाज ग्वालियर में चल रहा था। वही सीओ धनंजय सिंह ने बताया कि युवती को मानसिक विक्षिप्त बताया जा रहा है। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर जाँच कराई जाएगी।