पत्नी-पुत्र की हत्या कर किसान ने खुद को गोली से उड़ाया

महोबा: उत्तर प्रदेश के महोबा जनपद के खरेला थाना क्षेत्र के ग्राम धवारी में तीन लोगों के शव चारपाई पर पड़े मिलने से हड़कंप मच गया। आशंका जताई जा रही है कि आर्थिक तंगहाली के चलते बुधवार देर रात किसान ने पत्नी और पुत्र को गोली मारकर खुद को भी गोली से उड़ा दिया।

ग्राम धवारी निवासी भगवान सिंह (40) पुत्र सुघर सिंह पनवाड़ी थाना क्षेत्र के बैंदो ग्राम स्थित पेट्रोल पंप में नौकरी करता था। पत्नी सीता देवी (35) व छोटे पुत्र हिमांशु (13) के चिकनगुनिया से प्रभावित होने की सूचना पर वह घर आया था। बुधवार देर रात गोली चलने की आवाज मृतक के भाई आदि ने सुनी लेकिन सोचा कि गांव में एक बच्चे का जन्म हुआ है और उसकी खुशी में पटाखा छुड़ाया गया होगा। सुबह पड़ोस का एक बच्चा भगवान सिंह के घर पढ़ने के लिए गया तो उसने दो खाट पर तीन शवों को पड़ा देखा।

उसने मृतक के भाई को घटना की जानकारी दी। तीन लोगों की संदिग्ध मौत की खबर पर एएसपी राजेश कुमार सक्सेना, सीओ गुरुदयाल सिंह कटियार, एसएचओ चरखारी बलजीत सिंह, खरेला थाना प्रभारी राजीव यादव सहित भारी फोर्स मौके पर पहुंची। जांच पड़ताल के बाद फोरेंसिक टीम को बुलाया गया।

मौके पर पुलिस को खाट के नीचे ही देशी तमंचा मिला है। मृतक के भाई रघुराज सिंह ने पुलिस को दी तहरीर में आशंका जताई है कि आर्थिक तंगहाली से परेशान उसके छोटे भाई ने पत्नी और पुत्र को गोली मारकर मौत की नींद सुला दिया और फिर खुद को भी गोली मार ली। मृतक के भाई ने बताया कि उसने चार वर्ष पूर्व ग्रीन कार्ड से एसबीआई शाखा से ऋण ले रखा था। 35 हजार रुपये सोसायटी और कुछ साहूकारों का कर्ज भी उस पर था। खेती में कुछ पैदा न होने पर परिवार पालने के लिए पेट्रोल पंप में काम करने लगा था।

मृतक का एक पुत्र पवन (16) आश्रम पद्धति विद्यालय चरखारी में कक्षा 11 में पढ़ रहा है और चरखारी में ही था, लिहाजा इसकी जान बच गयी। बताया जाता है कि मौजूदा दौर में भोजन के लाले पड़ गये थे। माना जा रहा है कि इसी कारण उसने पत्नी व पुत्र को गोली मार खुद को भी गोली मार ली।